नैनीताल दुग्ध संघ में 5 वर्ष के भीतर हुए ऐतिहासिक एवं अभूतपूर्व विकास कार्य………….. श्वेत क्रांति के क्षेत्र में बढ़े कदम

खबर शेयर करें -

लालकुआं। नैनीताल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के अध्यक्ष मुकेश बोरा ने अपने 5 वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए इस दौरान दुग्ध क्रांति के क्षेत्र में हुए विकास को अभूतपूर्व एवं ऐतिहासिक बताया।
बोरा यहां कृषक भवन में पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे, उन्होंने बताया कि जनपद में 558 दुग्ध समितियां से बढाकर उन्होंने 653 दुग्ध समितियों का गठन किया, जिनमें से 604 दुग्ध समितियां वर्तमान में कार्य कर रही है, वही पर्वतीय क्षेत्रों में पूर्व से दुगना दुग्ध उत्पादन शुरू करवाया। उन्होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों की समितियों के सचिवों को 50 पैसा बोनस उन्होंने अपने कार्यकाल में दिलवाया, तथा अब मैदानी क्षेत्र के लिए भी वह प्रयासरत है। दुग्ध संघ अध्यक्ष मुकेश बोरा ने कहा कि उनके कार्यकाल से पूर्व अकुशल श्रमिकों को 7000 हजार रुपया मानदेय दिया जाता था, उनके कार्यकाल में अब 25000 रुपए तक कार्मिकों को वेतन दिया जा रहा है, सभी कामगारों को ईएसआई की सुविधा भी प्रदान की जा रही है, दुग्ध संघ अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने एक वर्ष के दौरान 9 रुपया उत्पादकों का दुग्ध मूल्य बढ़ाया, साथ ही वर्तमान में दुग्ध संघ को विभिन्न उत्पादों से लाखों रुपए का लाभ हो रहा है। इस वर्ष उन्होंने मिठाई के रूप में पांच उत्पाद तैयार किए हैं, जिन्हें दिवाली में बाजार में उतारा जा रहा है, श्वेत क्रांति के क्षेत्र में योगदान के लिए उन्होंने दुग्ध संघ संचालक मंडल के सदस्यों को शाल ओड़ाकर सम्मानित भी किया। पत्रकार वार्ता के दौरान दुग्ध संघ के सामान्य प्रबंधक निर्भय नारायण सिंह, कोऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के महाप्रबंधक डॉ मोहन चंद्र, पशु आहार निर्माण शाला के सामान्य प्रबंधक आरएस चौहान दुग्ध संघ के कारखाना प्रबंधक प्रहलाद सिंह सहित दुग्ध संघ के नैनीताल जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से आए संचालक मंडल के सदस्य मौजूद थे।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  गौरीकुंड में देर रात सिलेंडर फटने से हुआ हादसा, यात्रियों में मचा हड़कंप