लालकुआं स्थित नैनीताल दुग्ध संघ में हुवे अमोनिया गैस रिसाव में दो कर्मचारियों के संपर्क में आने के बाद इन प्रशासनिक अधिकारियों ने की मामले की जांच

खबर शेयर करें -

लालकुआं। नैनीताल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ की मुख्य दुग्धशाला में अमोनिया गैस के रिसाव के संपर्क में आए दो कर्मचारियों को हल्द्वानी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, साथ ही इस दौरान लगभग 5 घंटे तक दूध एवं दुग्ध पदार्थों की आपूर्ति प्रभावित रही, जिसे दोपहर तक सामान्य कर लिया गया।
नैनीताल दुग्ध संघ के प्लांट में अमोनिया गैस के रिसाव होने के चलते वहां कार्य कर रहे दो कर्मचारी भीम सिंह मेहता उम्र 55 वर्ष निवासी नगला उधम सिंह नगर और अभय सिंह उम्र 50 वर्ष निवासी दुग्ध संघ आवासीय कॉलोनी प्रभावित हो गए। इसके बाद आनन फानन में इलाज के लिए उन्हें हल्द्वानी के सोबन सिंह जीना बेस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां पर डॉक्टरों की देखरेख में उनका इलाज चल रहा है। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है, घटना आधी रात बाद की बताई जा रही है, एसडीएम परितोष वर्मा ने कहा कि गैस रिसाव के कारणों की जांच की जा रही है, उन्होंने बेस हॉस्पिटल जाकर घायलों का हाल-चाल जाना, डॉक्टरों को घायलों का बेहतर इलाज करने के निर्देश दिए हैं, मुख्य दुग्ध शाला में गैस रिसाव हो जाने के चलते रात्रि से प्रातः लगभग 5 घंटे तक दूध एवं दुग्ध पदार्थों की आपूर्ति बाधित रही, जिसे बाद में शुरू कर दिया गया, और दोपहर तक स्थिति पूरी तरह सामान्य हो गई।
इधर तहसीलदार मनीषा बिष्ट ने दुग्ध संघ के मुख्य दुग्धशाला स्थित चिलर प्लांट में जाकर घटना की जांच की, तथा पूरे परिसर का बारीकी से निरीक्षण करते हुए संबंधित कर्मचारी एवं अधिकारियों से बातचीत भी की। निरीक्षण के पश्चात पत्रकारों से वार्ता करते हुए तहसीलदार मनीषा बिष्ट ने कहा कि गैस रिसाव मामले की जांच चल रही है, जल्द ही रिपोर्ट तैयार कर उच्चाधिकारियों को प्रेषित कर दी जाएगी, फिलहाल रिसाव से दो कर्मचारियों के प्रभावित होने की जानकारी सामने आई है।

यह भी पढ़ें 👉 हल्द्वानी- लालकुआं समेत नैनीताल जिले में सड़क सुरक्षा को लेकर संतोषजनक कार्य न होने पर डीएम नैनीताल ने आरटीओ और एआरटीओ को जारी किया यह नोटिस…………
बॉक्स:- लालकुआं। नैनीताल दुग्ध संघ के अध्यक्ष मुकेश बोरा ने कहा कि मुख्य दुग्धशाला में देर रात्रि अमोनिया गैस पाइप लाइन में रिसाव होने के बाद तत्काल अधिकारी कर्मचारियो की सूझबूझ से नियंत्रण कर लिया गया था, और सुरक्षा की दृष्टि से रात्रि पाली में कार्य कर रहे कार्मिको को कार्य स्थल से बाहर कर दिया गया था। गैस रिसाव से प्रभावित दो कार्मिको को बेस अस्पताल हल्द्वानी में प्राथमिक उपचार हेतु भेजा गया है, जिनकी हालत सामान्य है। बोरा ने कहा कि प्लान्ट मशीनरी पुरानी होने के कारण ही वर्तमान नये आधुनिक डेरी प्लांन्ट की नितान्त आवश्यकता है, जिसका प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। इसके साथ ही बोरा ने उक्त घटना के चलते दुग्ध आपूर्ति बाधित हो जाने के बावजूद उपभोक्ताओं द्वारा किए गए दूध एवं दुग्ध पदार्थों के इंतजार एवं धैर्य के लिए उनका आभार व्यक्त किया।
नैनीताल दुग्ध संघ के सामान्य प्रबन्धक निर्भय नारायण सिह ने बताया कि विगत रात्रि अमोनिया गैस पाइप लाइन में हूए रिसाव को समय अंतर्गत नियंत्रित कर लिया गया था, लेकिन दो कर्मचारी उस गैस से प्रभावित हुए थे, जिनका प्राथमिक उपचार बेस अस्पताल हल्द्वानी में चल रहा है, जिनकी स्थिति सामान्य है, इसके अतिरिक्त कोई अन्य कर्मचारी प्रभावित नही है। बाजार में दुग्ध आपूर्ति बहाल कर दी गई है।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड- यहां पुलिस ने चोरी हुई बाइक के साथ दो किए गिरफ्तार