खबर शेयर करें -

हल्दूचौड़/ गौ धाम हल्दूचौड़ में इन दिनों प्रभु श्री राम जी की कथा की धूम मची हुई है चारों ओर का वातावरण आध्यात्म की अनुपम छटा बिखेरे हुए है भक्तों का अपार समूह यहॉ प्रतिदिन श्री राम कथा के श्रवण को पहुंच रहा है

विश्व प्रसिद्ध संत तत्वज्ञानी श्रील् नवयोगेन्द्र महाराज जी के श्री मुख से कथा का श्रवण कर भक्तजन स्वय को धन्य महसूस कर रहे है कथा के दूसरे दिन श्रील् नव योगेन्द्र महाराज जी ने याज्ञवल्क्य और भारद्वाज ऋषि के सुन्दर संवाद का वर्णन किया

यह भी पढ़ें -  दून से महिला मरीज को लेकर जा रही एम्बुलेंस को ट्रक ने मारी टक्कर, महिला मरीज व उसके पुत्र की मौत

साथ ही उन्होने बताया हर पल नाम सुमिरन व भक्ति करना ही जीवन का मूल उद्देश्य होना चाहिए। सांसारिक कार्य करने के बाद पश्चाताप हो सकता है, परन्तु श्री राम की भक्ति, साधना, ध्यान, परोपकार के पश्चात् पश्चाताप का कोई स्थान नही वरन् आनन्द ही आनन्द है। आत्म संतोष की अनुभूति श्री राम कथा के श्रवण से प्राप्त होती है।
श्री महाराज ने कहा कि अमृत से मीठा अगर कुछ है तो वह श्री राम का नाम है, उन्होंने कहा प्रभु के बिना जीवन का कोई अर्थ नहीं है कथा के दौरान श्री राम के भक्तिमयी भजनों की प्रस्तुति से पांडाल मे उपस्थित भक्त गण झूम उठे तथा दोनों हाथ ऊपर उठा कर श्री राम भजनों पर झुमते हुए कथा एवं भजनों का आनन्द लिया। आगे

यह भी पढ़ें -  कच्ची शराब भट्टी पकड़ने गई थी पुलिस टीम , तमंचा फैक्ट्री देख रह गई दंग

यह भी पढ़ें 👉 भद्रकाली के गुप्त रहस्य

उन्होनें कहा कि श्रीरामकथा महान् ज्ञान यज्ञ है।
इस अवसर पर स्वामी रामेश्वर दास महाराज , गोपीदास , केवल कृष्ण दास, भरत श्रेष्ठ दास, नारद मुनि जी, सविता माता, कुंती माता , गोपाल नेगी , राजेन्द्र बिष्ट, कमलेश भट्ट, बी० डी० खोलिया, ज्वाला दत्त , सतीश दास, प्रकाश भट्ट, चंदू खोलिया, लक्ष्मी खोलिया, राजेन्द्र बिष्ट सहित अनेकों भक्त मौजूद रहे

Advertisement