भाई ही बना रुद्रपुर निवासी बहन का हत्यारा, मारकर घर में ही दफनाया शव; वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

खबर शेयर करें -


गमी की होली करने घर आई बहन रानी की भाई रामू ने गला दबाकर हत्या कर दी। फिर कमरे में ही चार फीट गहरा गड्ढा खोदकर उसका शव दबा दिया। किसी को कोई शक ना हो, इसके लिए उस कमरे में फर्श डाल दिया।

20 दिन बाद हत्यारोपित रामू की निशानदेही पर फर्श और गड्ढा खोदा गया जिसके बाद रानी का शव बरामद हो गया। बहन द्वारा आटो के लिए दिये गए 51 हजार रुपये का तकादा करने पर हत्या की बात सामने आई है।

हत्यारोपित रामू का कहना है कि बहन शराब पीकर घूमती थी। आए दिन विवाद करती थी। इसको लेकर लोग ताने मारते थे, जिससे बेइज्जती हो रही थी, इसलिए मार दिया।

रानी की उत्तराखंड में हुई थी शादी

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड -यहां एक साथ दो गुलदार सीढ़ी चढ़ते दिए दिखाई

सुभाषनगर के सनैया धनसिंह निवासी तेजराम की बेटी रानी की 20 वर्ष पूर्व उत्तराखंड के रुद्रपुर स्थित शिवनगर के अलकेश से शादी हुई थी। रानी की एक 18 वर्षीय बेटी व दो बेटे हैं। बीते साल रानी की मां सुशीला की मृत्यु हुई थी। लिहाजा, गमी की होली के लिए वह 15 मार्च को ही मायके आ गई थीं।

रामू के ठीक बगल में उनके बड़े भाई लाखन का मकान है। रात 11 बजे तक रानी भाई लाखन के घर रहीं। इसके बाद रामू के घर चलीं गईं। रामू घर पर अकेला ही था। उसकी पत्नी बच्चों के साथ मायके गई हुई थी। अगले दिन सुबह से रानी का कोई पता नहीं चला। काफी दिन बीत गए। रानी का मोबाइल नंबर भी बंद जाता रहा। जिसके बाद 27 मार्च को पति अलकेश ने सुभाषनगर थाने में पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराई।

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने वित्त मंत्री से की मुलाकात, उत्तराखण्ड के विकास संबंधी विभिन्न विषयों पर की चर्चा

रानी की तलाश में जुटे सभी

सभी रानी की तलाश में जुटे थे। इस बीच रामू बेफिक्र दिखा। उसने कमरे में फर्श भी डाल लिया। तभी उस पर शक गहराया। बुधवार को सुभाषनगर इंस्पेक्टर सतीश कुमार राय पूछताछ के बाद संदेह के आधार पर फोर्स संग रामू को उसके घर लेकर पहुंचे।

फर्श खोदा ही गया था कि रामू ने बता दिया कि गड्ढ़ा भी खोद लो, बहन का शव इसी में दबाया है। गड्ढा खोदने पर रानी का शव बरामद हुआ। उसी में से रानी का मोबाइल, चप्पल, चूड़ियां, सिंगार का सामान भी बरामद किया गया। तत्काल ही फोरेंसिक टीम व सीओ पंकज श्रीवास्तव पहुंचे। शव बरामदगी होते ही पुलिस ने आरोपित रामू को गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें -  इस विभाग में 2364 पदों पर होगी भर्ती, स्थानीय लोगों को मिलेगी प्राथमिकता

रामू साल 2018 में सराय तल्फी में हुए लता चौहान हत्याकांड में भी जेल जा चुका है। उसका साथी मोनू यादव व यशपाल भी इसी मामले में जेल गए। इसी दौरान उस पर गैंगस्टर की कार्रवाई हुई। 2019 में वह जमानत पर बाहर आया था। आरोपित ने गला दबाकर बहन की हत्या की बात स्वीकारी।

सीओ प्रथम पंकज श्रीवास्तव के अनुसार, आरोपित रामू ने बहन रानी की हत्या के बाद शव कमरे में ही दफना दिया था। फिर उस पर फर्श भी डाल दिया था। उसकी निशानदेही पर शव बरामद कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया। रामू ने स्वीकारा कि बहन के शराब पीने से उसकी बेइज्जती हो रही थी, इसलिए उसकी हत्या कर दी

Advertisement