जंगल की आग का कहर, झुलसी चौथी श्रमिक ने भी तोड़ा दम, अब तक पांच की मौत

खबर शेयर करें -



उत्तराखंड के जंगल धधक रहे हैं। जंगल की आग दिन पर दिन विकराल रूप लेती जा रही है। जंगल की आग रिहायशी इलाकों तक भी पहुंच रही है। जंगल की की आग से झुलस कर मरने वालों का आंकड़ा अब पांच हो गया है। अल्मोड़ा के सोमेश्वर में झुलसी चौथी श्रमिक की भी मौत हो गई है।


प्रदेश में जंगलों में आग लगने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। कुमाऊं से लेकर गढ़वाल के जंगल धधक रहे हैं। कुमाऊं में जंगल की आग की ज्यादा घटनाएं सामने आ रही हैं। अब तक प्रदेश में वनाग्नि की घटनाओं में एक हजार हेक्टेर से भी ज्यादा जंगल राख हो गए हैं। इसके साथ ही आग के कारण तीन घर भी जल गए हैं।

यह भी पढ़ें -  लालकुआं मामला-: हाईकोर्ट ने वक्फ बोर्ड से रिकॉर्ड किये तलब, वसूली पर लगाई रोक ।।

जंगल की आग से अब तक पांच की मौत
उत्तराखंड में वनाग्नि की घटनाओं में अब तक चार लोगों की मौत हो गई है। बीते गुरूवार को अल्मोड़ा के सोमेश्वर के स्यूनराकोट के जंगलों में लगी आग की चपेट में आने से एक नेपाली मजदूर की मौत हो गई थी। जबकि तीन मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए थे। घायल तीन मजदूरों में से दो मजदूरों ने भी बीते शुक्रवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। जबकि एक महिला श्रमिक जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही थी। लेकिन शनिवार को महिला श्रमिक ने भी दम तोड़ दिया। इसके साथ ही रविवार को पौड़ी में बुजुर्ग महिला की मौत के बाद जंगल की आग से मरने वालों का आंकड़ा पांच हो गया है।

यह भी पढ़ें -  Ram Mandir पहुंच रहे लाखों लोग, रात 11 बजे तक होंगे दर्शन, भीड़ को देखते हुए VIP लोगों से खास अपील

इस सीजन में जंगल की आग की 886 घटनाएं आई सामने
उत्तराखंड में पहाड़ी इलाकों में इन दिनों जंगल धधक रहे हैं। इस फायर सीजन में अब तक कुमाऊं से लेकर गढ़वाल तक 886 आग की घटनाएं सामने आई हैं। आग की घटनाओं में अब तक 1107 हेक्टेयर से ज्यादा वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है। अब तक जंगल में आग लगाने के मामले में 350 मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

Advertisement