हल्द्वानी:बड़ा खुलासा_छात्रों को फर्जी डिप्लोमा बांटने वाला DPMI का एमडी गिरफ़्तार

खबर शेयर करें -

हल्द्वानी में लंबे समय से गोलापार के DPMI संस्थान में बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे बड़े फर्जीवाड़े का एसएसपी नैनीताल प्रहलाद नारायण मीणा ने खुलासा कर दिया है।

एस०एस०पी० नैनीताल द्वारा नैनीताल पुलिस के सभी थाना प्रभारियों व विवेचना ईकाईयों को जनपद में अनैतिक गतिविधि अथवा धोखाधड़ी करने वाले व्यक्तियों केविरुद्ध कठोर वैधानिक कार्यवाही अथवा प्रभावी विवेचना करने के निर्देश दिये गये हैं। जिस आदेश के कम में विगत11.10 2023 को वादी हिमांशु नेगी पुत्र गोपाल सिंह नेगी निवासी मुखानी हल्द्वानी (DPMI खंडा, गौलापारकाठगोदाम का वर्ष 2019 का छात्र) की तहरीर जिसमें DPMI काठगोदाम के MD डॉ प्रकाश सिंह मेहरा औरप्रधानाचार्य डॉ पल्लवी मेहरा व तनुजा गंगोला (रिसेप्निस्ट) के द्वारा राज्य में पंजीकरण के सम्बन्ध में लाखो रुपयेहडप लेने के आधार पर थाना काठगोदाम में दिनांकः 11.10.2023 को मुकदमा अपराध संख्या 150/23 धारा 420भादवि बनाम डॉ प्रकाश सिंह मेहरा, डॉ पल्लवी मेहरा, तनुजा गंगोला पंजीकृत किया गया।

यह भी पढ़ें -  आयुष्मान योजना के तहत कैंसर जैसी घातक बीमारी से ग्रस्त 27112 से अधिक लाभार्थी ले चुके हैं मुफ्त उपचार

एस०एस०पी० नैनीतालद्वारा सम्बन्धित पुलिस प्रभारी अधिकारियों को मामले का तत्काल खुलासा करने एवं आरोपियों की गिरफ्तारी करनेके सख्त निर्देश दिये गये।पुलिस कार्यवाहीःथाना काठगोदाम में पंजीकृत उपरोक्त धोखाधड़ी के मामले में श्री हरबन्स सिंह, एस०पी० सिटी० हल्द्वानी के मार्गदर्शन भूपेन्द्र सिंह धौनी क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी के पर्यवेक्षण में विमल कुमार मिश्रा, थानाध्यक्ष काठगोदाम को टीम गठित करते हुए प्रभावी विवेचना कराये जाने के निर्देश दिये गये।

सम्बन्धित अभियोग की विवेचना उ०नि० मनोज कुमार को दी गयी। दौराने विवेचना DPMI काठगोदाम के संचालक / आरोपी द्वारा बताया गया कि उसके द्वारा वर्ष 2018 में DPMI दिल्ली की फैचाईजी ली गयी, और पूर्वी खेडा गौलापार में DPMI काठगोदाम कालेज का संचालन शुरु कर पैरामेडिकल के विभिन्न कोर्सी शुरु कर छात्रों को एडमिशन दिया गया।

यह भी पढ़ें -  इस बार रावण का पुतला ही नहीं जल पाया, दशहरा समिति पर लगे ये आरोप

DPMI काठगोदाम द्वारा वर्ष 2018 के 08 छात्र छात्राओ, वर्ष 2019 के 37 छात्र छात्राओ, वर्ष 2020 के 21 छात्र छात्राओं को पैरामेडिकल कोर्स का डिप्लोमा दिया गया और वर्ष 2021 के 30 छात्र छात्राओं को डिप्लोमा देना शेष है। दौराने विवेचना के क्रम में DPMI काठगोदाम की मुख्य शाखा DPMI दिल्ली जाकर पता चला कि DPMI दिल्ली द्वारा DPMI काठगोदामं के वर्ष

2018 के 08 छात्र छात्राओ को ही अब तक डिप्लोमा प्रदान किया गया है व वर्ष 2019 के 37 छात्र छात्राओं के प्रथम वर्ष की परीक्षा कराकर प्रथम वर्ष की मार्कशीट दी गयी है। उसके बाद DPMI काठगोदाम के संचालक / आरोपी प्रकाश मेहरा (जोकि उक्त संस्थान का प्रबन्ध निदेशक है) द्वारा फीस जमा न करने पर DPMI दिल्ली द्वारा DPMI काठगोदाम को Fee डिफाल्टर घोषित कर कार्यक्रम बन्द कर दिया गया।

यह भी पढ़ें -  गौला खनन संघर्ष समिति केवल रेता के लिए शीश महल गेट के वाहन स्वामियों को अनुमति दी

वर्ष 2019 में कार्यक्रम बन्द होने के बाद भी आरोपी प्रकाश मेहरा द्वारा छात्र छात्राओ को अपने कॉलेज में लाखो रुपये की फीस लेकर दाखिला दिया गया व विवेचना से वर्श 2019 के 37 व 2020 के 21 कुल 58 छात्र छात्राओ को फर्जी डिप्लोमा प्रदान किया जाना प्रकाश में आया।

जिस पर मुकदमा उपरोक्त में 467/468 भादवि की बढ़ोत्तरी कर अभियुक्त प्रकाश मेहरा को दिनांक 27/12/2023 को कमलुवागांजा मुखानी क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया।गिरफ्तार अभियुक्तः डॉ प्रकाश मेहरा (मैनेजिंग डायरैक्टर) पुत्र खुशाल सिंह मेहरा नि० पूर्वी खेडा गोलापार काठगोदाम हाल गिरजा विहार, कमलुवागांजा, थाना-मुखनी मूल निवासी ग्राम कैथी, थाना मुन्स्यारी जिला पिथौरागढ़ उम्र 36 वर्ष।मुकदमे का विवरणः मु०अ०स०-150/23, धारा 420/467/468 भादवि0, थाना काठगोदाम ।

Advertisement