जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में मुठभेड़ में कर्नल समेत तीन अधिकारी शहीद, राजौरी में दो आतंकी मार गिराए

खबर शेयर करें -

जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में सेना के एक कर्नल सहित सुरक्षा बल के 3 जवान शहीद हो गए। अधिकारियों ने बताया कि अनंतनाग जिले के कोकेरनाग इलाके में यह एनकाउंटर हुआ। उन्होंने बताया कि कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष, जम्मू कश्मीर पुलिस के उपाधीक्षक (DSP) हुमायूं भट गोलीबारी में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में उनकी मृत्यु हो गई। उन्होंने कहा कि भट की मौत अत्यधिक खून बह जाने के कारण हुई।

अधिकारियों ने बताया कि गाडोले इलाके में आतंकियों के खिलाफ अभियान मंगलवार शाम को शुरू हुआ था, लेकिन रात में इसे रोक दिया गया था। उन्होंने कहा कि आज सुबह आतंकवादियों की तलाश फिर शुरू की गई, जब सूचना मिली कि उन्हें एक ठिकाने पर देखा गया है। सेना के कर्नल अपने दल का नेतृत्व कर थे, जिसने आतंकियों पर हमला बोल दिया। हालांकि, आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गए।

यह भी पढ़ें -  कुमाऊं आय़ुक्त दीपक रावत ने रामनगर के बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र चुकम गांव का स्थलीय निरीक्षण

राजौरी में मुठभेड़ के दौरान दूसरा आतंकी मारा गया
दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बुधवार को मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों ने एक और आतंकवादी को मार गिराया। जिले के सुदूरवर्ती गांव में तीन दिन से जारी अभियान के दौरान मारे गए आतंकवादियों की संख्या बढ़कर 3 हो गई है। सुदूरवर्ती नारला गांव में मंगलवार को हुई मुठभेड़ में एक संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी मारा गया। गोलीबारी में सेना का एक जवान और सेना की श्वान इकाई की 6 वर्षीय मादा लैब्राडोर केंट भी शहीद हो गई, जबकि तीन सुरक्षाकर्मी घायल हो गए।

यह भी पढ़ें -  कुमाऊं आयुक्त नया आयुक्त कैंप कार्यालय में 2 करोड़ से अधिक लागत से बनने वाले विभिन्न निर्माण कार्यों की समीक्षा मंडलीय अधिकारों के साथ की बैठक

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) (जम्मू क्षेत्र) मुकेश सिंह ने कहा कि बुधवार को मुठभेड़ में एक और आतंकवादी को मार गिराया गया। अधिकारियों ने कहा कि खराब मौसम के बावजूद सुरक्षा बलों ने राजौरी शहर से 75 किलोमीटर दूर इलाके के चारों ओर पूरी रात मजबूत घेराबंदी की। सुबह आस-पास के इलाकों में तलाशी बढ़ा दी गई। उन्होंने बताया कि रात में रुक-रुककर गोलीबारी होती रही जिससे स्थानीय निवासियों में भय बना रहा। स्थानीय निवासी क्षेत्र में स्थायी सुरक्षा चौकी की मांग कर रहे हैं।

Advertisement