UPCL: यहां 41 डिग्री पारे में 40 घंटे गुल रही बिजली, भड़के लोग; 600 से अधिक परिवार हुए परेशान

खबर शेयर करें -


हल्द्वानी: भीषण गर्मी का प्रकोप ऐसा है कि पंखे और कूलर जैसे उपकरण भी अब राहत देने में हांफ चुके हैं। जनमानस बेचैन हो चुका है। 41 डिग्री तापमान के बीच हल्द्वानी के गौजाजाली में 40 घंटे तक बिजली गुल रही। शुरुआत में तो लोगों ने बिजली के इंतजार में काफी धैर्य रखा, मगर बुधवार सुबह उपभोक्ताओं का सब्र जवाब दे गया और क्षेत्र में एकत्र होकर ऊर्जा निगम के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। साथ ही मौके पर पहुंचे ऊर्जा निगम के अधिकारियों का घेराव करते नाराजगी भी जताई।

क्षेत्रवासियों के हंगामे को देखते हुए ऊर्जा निगम ने बुधवार को 100 केवीए के स्थान पर 250 केवीए का नया ट्रांसफार्मर लगा दिया है। इसके अलावा तारों को भी सुधारा। ऐसे में शाम करीब 5:15 बजे बिजली आपूर्ति सामान्य हो पाई और लोगों ने राहत की सांस ली। निवर्तमान पार्षद रईस अहमद के नेतृत्व में प्रदर्शन कर रहे क्षेत्रवासियों ने बताया कि सोमवार रात करीब एक बजे बिजली आपूर्ति ठप हो गई थी। मंगलवार को ऊर्जा निगम ने फाल्ट ठीककर आपूर्ति सुचारू की, लेकिन फिर ट्रांसफार्मर फुंक गया।

यह भी पढ़ें -  एसटीएफ ने इस बीडीसी सदस्य को 2 किलो से अधिक चरस के साथ किया गिरफ्तार

ऐसे में लगातार समस्या बनी रही। इससे 600 से अधिक आबादी प्रभावित रही। बताया कि ऊर्जा निगम से लगातार ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ाने की मांग भी की जा रही थी, लेकिन अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। ऐसे में इस बार भीषण गर्मी पड़ने और बिजली की डिमांड बढ़ने से कम क्षमता का यंत्र जवाब दे गया। हालांकि, बुधवार को लोगों के प्रदर्शन करने के बाद निगम अधिकारियों ने आनन-फानन में क्षमता वृद्धि कर अस्थायी रूप से आपूर्ति बहाल कर दी।

यह भी पढ़ें -  रिवॉल्वर और बंदूक के लाइसेंस बनवाने के लिए सपा नेता ने किया ऐसा काम, अब सलाखाें के पीछे पहुंचा

बोले लोग
भीषण गर्मी पड़ रही है और इसमें बगैर पंखे थोड़ी देर रहना संभव नहीं हो रहा है, मगर हमारे क्षेत्र में सोमवार रात से बिजली नहीं थी। ऐसे में काफी परेशानी झेलनी पड़ी। – चंचला जोशी
ऊर्जा निगम को गर्मी के सीजन को देखते हुए व्यवस्था दुरुस्त रखनी चाहिए, मगर व्यवस्थाएं ऐसी हैं कि सप्लाई बाधित होने के 40 घंटे बाद स्थिति सामान्य हो पाई। – सुनीता गुणवंत
सोमवार रात से बिजली आपूर्ति ठप होने की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ा। बिजली नहीं होने की वजह से टंकी में पानी भी नहीं चढ़ पाया। इससे दोहरी मार पड़ी। – चंपा बहुगुणा
आबादी लगातार बढ़ रही है। ऐसे में ऊर्जा निगम से एक वर्ष पहले ही ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ाने की मांग की गई थी, मगर इस बार लोगों को 40 घंटे समस्या झेलनी पड़ी। – रईस अहमद, निवर्तमान पार्षद

Advertisement