उत्तराखंड: मैदानी जिलों में 14 % से ऊपर और पर्वतीय में नीचे पहुंचा ओबीसी आरक्षण, देखें पूरी सूची

खबर शेयर करें -

, देहरादून: उत्तराखंड के मैदानी जिलों में आबादी अधिक होने की वजह से ओबीसी का आरक्षण 14 प्रतिशत का आंकड़ा पार कर गया है, जबकि पर्वतीय जिलों में ज्यादातर निकायों में ओबीसी की हिस्सेदारी घट गई है। ओबीसी सर्वेक्षण रिपोर्ट के हिसाब से नगर निगम काशीपुर, नगर पालिका मंगलौर और नगर पंचायत सुलतानपुर-आदमपुर में ओबीसी की सर्वाधिक आबादी सामने आई है।

सभी नगर निकायों में ओबीसी के लिए अभी तक 14 प्रतिशत आरक्षण तय था, लेकिन ताजा सर्वेक्षण में यह इससे कहीं ऊपर चला गया है। नगर निगमों में ऊधमसिंह नगर के रुद्रपुर में 19.03, काशीपुर में 38.62 प्रतिशत, हरिद्वार जिले के हरिद्वार में 20.90 और रुड़की में 36.20 प्रतिशत, नैनीताल के हल्द्वानी में 18.42 प्रतिशत आरक्षण की पैरवी की गई है।
मैदानी जिलों में केवल देहरादून में 14 से कम यानी 11.92 और ऋषिकेश में 9.06 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण की संस्तुति की गई है। पर्वतीय जिले की बात करें तो पौड़ी के कोटद्वार में 6.52 और श्रीनगर में 5.51 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण की सिफारिश की गई है। नगर पालिकाओं के हिसाब से देखें तो देहरादून की विकासनगर में 22.93, डोईवाला में 34.82, मसूरी में 12.23 प्रतिशत।

यह भी पढ़ें -  दो दिन तक बंद रहेगा सुरकंडा देवी रोपवे का संचालन, जानें वजह

नगला में 26.16 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण की सिफारिश
हरिद्वार की मंगलौर में 67.73, लक्सर में 36.04, शिवालिक नगर में 14.91 प्रतिशत, ऊधमसिंह नगर की गदरपुर में 37.85, जसपुर में 63.52, बाजपुर में 32.59, किच्छा में 46.05, सितारगंज में 49.11, खटीमा में 34.69, महुआखेड़गंज में 62.41 और नगला में 26.16 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण की सिफारिश की गई है।

पर्वतीय जिलों में देखें तो चमोली के गौचर, कर्णप्रयाग, टिहरी के देवप्रयाग, पौड़ी के पौड़ी व दुगड्डा, पिथौरागढ़ के पिथौरागढ़, डीडीहाट, गंगोलीहाट, बेरीनाग, चंपावत जिले के चंपावत, लोहाघाट, अल्मोड़ा जिले के अल्मोड़ा, रानीखेत, बागेश्वर जिले के बागेश्वर, नैनीताल जिले के नैनीताल, भवाली पालिकाओं में ओबीसी का आरक्षण 10 प्रतिशत से काफी कम है।

इसी प्रकार नगर पंचायतों में भी मैदानी जिलों में ज्यादा और पर्वतीय जिलों में 14 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण की सिफारिश की गई है।

यह भी पढ़ें -  खैरना में पुलिस ने चलाया चैकिंग अभियान

नगर निकायों में आरक्षण का गणित

पद कुल एससी एसटी अनारक्षित ओबीसी
मेयर 09 01 00 06 02
अध्यक्ष (पालिका) 41 06 01 22 12
अध्यक्ष (नगर पंचायत) 45 06 00 23 16
पार्षद (निगम) 460 60 01 317 82
सभासद (पालिका) 471 67 08 294 102
वार्ड मेंबर (नगर पंचायत) 302 42 02 204 54
आबादी के हिसाब से इन निकायों में सबसे ज्यादा ओबीसी आरक्षण
काशीपुर नगर निगम-38.62 प्रतिशत

मंगलौर नगर पालिका-67.73 प्रतिशत

सुलतानपुर-आदमपुर नगर पंचायत-87.08 प्रतिशत

(हालांकि नियमानुसार 50 प्रतिशत से कम सीटें ही ओबीसी की होंगी)

किस नगर निगम में कितने पार्षद ओबीसी

नगर निगम ओबीसी की सीटें
देहरादून 12
ऋषिकेश 04
हरिद्वार 13
रुड़की 14
कोटद्वार 03
श्रीनगर 02
रुद्रपुर 08
काशीपुर 15
हल्द्वानी 11
किस नगर पालिका में कितने सभासद ओबीसी
नगर पालिका ओबीसी की सीटें
विकासनगर 03
मसूरी 02
डोईवाला 07
मंगलौर 10
लक्सर 03
शिवालिकनगर 02
उत्तरकाशी 04
बड़कोट 02
चिन्यालीसौड़ 01
गोपेश्वर 01
जोशीमठ 02
गौचर 00
कर्णप्रयाग 00
टिहरी 02
चंबा 02
देवप्रयाग 00
मुनिकीरेती 03
पौड़ी 00
दुगड्डा 00
पिथौरागढ़ 00
धारचूला 00
डीडीहाट 00
गंगोलीहाट 00
बेरीनाग 00
टनकपुर 04
चंपावत 01
लोहाघाट 01
अल्मोड़ा 01
रानीखेत 00
बागेश्वर 01
नैनीताल 01
रामनगर 06
भवाली 00
गदरपुर 04
जसपुर 09
बाजपुर 04
किच्छा 08
सितारगंज 05
खटीमा – 07
महुआखेड़ा 01
नगला 05

यह भी पढ़ें -  फिर कलंकित हुआ रिश्ता भाई ने सगी बहन के साथ दुष्कर्म कर की हत्या

किस नगर पंचायत में कितने सभासद ओबीसी

नगर पंचायत- ओबीसी की सीटें

सेलाकुईं- 03

झबरेड़ा- 03

लंढौरा- 03

भगवानपुर- 02

पिरान कलियर- 04

ढंडेरा- 02

इमलीखेड़ा- 02

पाडली गुर्जर- 03

रामपुर- 03

सुलतानपुर-आदमपुर- 03

पुरोला- 02

नौगांव- 01

नंदप्रयाग- 00

पोखरी- 00

गैरसैंण- 00

थराली- 01

पीपलकोटी- 00

घनसाली- 00

गाजा- 00

लंबगांव- 02

चमियाला- 00

तपोवन- 00

अगस्त्यमुनि- 00

ऊखीमठ- 00

तिलवाड़ा- 00

स्वर्णाश्रम जौंक- 00

सतपुली- 00

थलीसैंण- 01

बनबसा- 02

द्वाराहाट- 00

भिकियासैंण- 00

चौखुटिया- 00

कपकोट- 00

गरुड़- 01

कालाढूंगी- 02

लालकुआं- 01

भीमताल- 00

महुआदावारा- 02

सुलतानपुर पट्टी- 02

केलाखेड़ा- 04

दिनेशपुर- 00

शक्तिगढ़- 00

नानकमत्ता- 02

गुल्लरभोज- 01

Advertisement