पेटीएम पर RBI का बड़ा एक्शन – अब वॉलेट से लेकर Fastag तक इन सर्विसेस पर रोक

खबर शेयर करें -

दिग्गज फिनटेक कंपनी पेटीएम को बड़ा झटका लगा है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक (Paytm Payments Bank) पर नए कस्टमर जोड़ने का प्रतिबंध लगा दिया है. यह फैसला तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है. केंद्रीय बैंक ने बुधवार को कहा कि बैंक कई सारे नियमों का उल्लंघन कर रहा है. ऑडिट रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. इस प्रतिबंध के बाद कस्टमर अपने खाते में पैसा जमा नहीं कर पाएंगे. साथ ही आरबीआई ने वॉलेट, फास्टटैग और एनसीएमसी कार्ड को भी टॉप अप नहीं किया जा सकेगा. हालांकि, पैसा निकालने की अनुमति कस्टमर को दी गई है।

RBI यानी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार (31 जनवरी) को बड़ा ऐलान किया. इसके तहत रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट बैंक के खिलाफ एक्शन लेते हुए इसकी तमाम सर्विसेज पर बैन लगा दिया, जो 29 फरवरी से लागू होगी. ऐसे में पेटीएम के बैंक अकाउंट धारकों को दिक्कत होनी तय है. इसके अलावा यूजर्स पेटीएम वॉलेट, एनसीएमसी कार्ड्स और फास्टैग आदि का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे. इसके वॉलेट यूजर्स की बात करें तो इनकी संख्या करोड़ों में है।

यह भी पढ़ें -  फ्री बिजली अभियान में 10 लाख लोगों ने कराया रजिस्ट्रेश-aap

झटका इसके वॉलेट यूजर्स को लगा है. दरअसल, आंकड़ों पर गौर करें तो 2018 के दौरान करीब तीन करोड़ लोग पेटीएम के वॉलेट से पेमेंट कर रहे थे और अब तक इसमें काफी इजाफा हो चुका है. ऐसे में तमाम लोगों को डिजिटल पेमेंट के लिए दूसरे विकल्पों की ओर रुख करना पड़ेगा।


इन ऑप्शंस का इस्तेमाल कर सकते हैं यूजर्स
बता दें कि रोजाना के काम-काज के दौरान डिजिटल पेमेंट के लिए भले ही पेटीएम के वॉलेट पर रोक लगने जा रही है, लेकिन यूजर्स बेहद आसानी से दूसरे माध्यमों से डिजिटल पेमेंट कर पाएंगे. अगर वॉलेट की बात करें तो यूजर्स के पास फोनपे, गूगल पे, एमेजॉन पे जैसे वॉलेट्स की सुविधा मौजूद है, जिससे वे आराम से पेमेंट कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड का सुपरचोर अंकित गिरफ्तार, सिर्फ फॉर्च्यूनर कार चुराता था..बड़े-बड़े शौक पाले थे

बैंक के ऐप से भी कर सकते हैं पेमेंट
अगर यूजर्स पेटीएम की जगह किसी दूसरे पेमेंट ऐप का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं तो वे अपने बैंक अकाउंट वाले ऐप से भी भुगतान कर सकते हैं. दरअसल, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, आईडीएफसी, यस बैंक समेत तमाम बैंक भी अपने ऐप में स्कैनर का ऑप्शन देते हैं, जिससे यूजर्स किसी भी क्यूआर कोड को स्कैन करके पेमेंट कर सकते हैं।

Advertisement