उपलब्धि : मैक्स अस्पताल ने 11 महीनों में पूरी की 100 से अधिक सफल रोबोटिक सर्जरी

खबर शेयर करें -

मैक्स अस्पताल ने ग्यारह महीनों की अवधि में 100वी रोबोटिक सर्जरी सफलतापूर्वक पूरी कर ली है। मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल देहरादून के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. जी.पी. पैन्यूली ने जानकारी देते बताया कि द विंसी एक्स सर्जिकल प्रणाली के साथ सर्जन केवल कुछ छोटे चीरों के माध्यम से ऑपरेशन करते हैं।

Ads.
डॉ. जी.पी. पैन्यूली ने कहा कि इस प्रक्रिया में मैग्निफाइड 3डी हाई-डेफिनिशन दृष्टि प्रणाली और छोटे कलाई वाले उपकरण हैं जो उत्कृष्ट रूप से झुकते और घूमते हैं। इसलिए सर्जन बेहतर दृष्टि सटीकता और नियंत्रण के साथ काम करते हैं और रोगियों के लिए बेहद बेहतर परिणाम प्राप्त होते हैं।

यह भी पढ़ें -  यहाँ शराब पीकर कार चला रहे युवकों ने एक युवती को जबरन कार में बैठाने का प्रयास,गिरफ्तार

डॉ. जी.पी. पैन्यूली ने कहा कि, ‘हमारा मानना है कि यह कुछ समय की ही बात है। जब मानव शरीर पर अधिकांश प्रक्रियाएं रोबोटिक तकनीक का उपयोग करके की जाएंगी। द विंसी एक्स सर्जिकल प्रणाली ने हमें सबसे अच्छे सर्जिकल परिणाम प्रदान करने में मदद की है।

डॉ. जी.पी. पैन्यूली ने बताया कि ‘जिस दिन से हमने इस तकनीक को अपनाया है। विभिन्न विशेषज्ञता वाले सर्जनों को व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए नियमित कार्यशालाएं आयोजित की गईं और उन्हें रोबोटिक सर्जरी के लिए प्रशिक्षित किया गया। यूरोलॉजी, गायनोकोलॉजी, ऑन्कोलॉजी, जनरल सर्जरी और जीआई के लिए रोबोटिक सर्जरी का अधिकतम उपयोग देखा गया है।’

यह भी पढ़ें -  यहाँ छह साल के बच्चे की हत्या, पालीथिन बैग में मिला शव

डॉ. जी.पी. पैन्यूली ने बताया कि इसकी बेहतर नैदानिक परिशुद्धता को देखते हुए सर्जरी में रोबोटिक्स का उपयोग रोगी के अस्पताल में रहने की अवधि को कम करने में सहायक रहा है। जिससे अधिकांश मामलों में रोगियों के स्वस्थ्य में तेजी से रिकवरी हुई है।

डॉ. संदीप सिंह तंवर वाईस प्रेसिडेंट ऑपरेशन और यूनिट हेड ने इस उपलब्धी पर कहा कि ‘इस नई तकनीक का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह सर्जरी के समय सटीकता को बढ़ाती है। हम अपने क्लिनिकल परिणामों को और बेहतर बनाने में सक्षम हुए। स्वस्थ्य क्षेत्र में हमारे उत्कृष्ट योगदान के लिए हमें “ट्रॉमा एंड क्रिटिकल केयर” के लिए उत्कृष्टता केंद्र के लिए भी मान्यता दी गई है।

Advertisement