बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड: पुलिस ने हत्या के षड्यंत्र में शामिल तीन और आरोपी किए गिरफ्तार

खबर शेयर करें -


ऊधमसिंहनगर। बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड में पुलिस द्वारा कुछ और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। यह सभी बाबा तरसेम सिंह की हत्या के षड्यंत्र में शामिल थे, बता दें की इन अपराधियों का लंबा चौड़ा अपराधिक इतिहास है, जिसमे मर्डर, लूटपाट, सहित कई मुकदमे दर्ज हैं।
पुलिस द्वारा पूर्व में बाबा तरसेम सिंह की हत्या की साजिश में दिलबाग सिंह, बलकार सिंह, हरविन्दर सिंह उर्फ पिन्दी,अमरदीप सिंह को गिरफ्तार किया जा चुका है। जाँच के दौरान सर्विलॉस, सीसीटीवी कैमरे की निगरानी एवं पूछताछ से यह भी तथ्य प्रकाश में आया था कि तुलापुर थाना बिलसण्डा पीलीभीत का रहने वाला आरोपी परगट सिंह तथा ग्राम दडहा थाना बिलासपुर निवासी सुल्तान सिह व सतनाम सिह निवासी कुईया महोलिया थाना बन्डा शाहजहांपुर भी बाबा तरसेम सिंह की हत्या की साजिश में शामिल हैं।


एसएसपी ने बताया की सुल्तान सिह मुकदमें में शूटर अमरजीत सिह उर्फ बिट्टू के निकट सम्पर्क में था तथा बिट्टू को हत्याकाण्ड के लिये तैयार करने वाला सुल्तान सिह ही है। सुल्तान सिह का काफी लम्बा चौड़ा आपराधिक इतिहास है। आरोपी परगट सिह को मुखबिर की सूचना के आधार पर 6 अप्रैल को पुलिस टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया है।
साथ ही एसएसपी ने बताया की जिस हथियार 315 बोर की रायफल से बाबा तरसेम सिंह की हत्या की गई है, वह हथियार बाजपुर निवासी जसपाल सिंह भट्टी उर्फ मिन्टू निवासी केशोवाला मोड थाना बाजपुर और सुखदेव सिंह गिल उर्फ सोनू गिल पुत्र सत्यपाल सिंह निवासी बन्नाखेडा धाना बाजपुर द्वारा शूटर अमरजीत सिंह उर्फ बिड्डू तथा सरबजीत सिंह को बाजपुर में ही उक्त हत्या के षड्यन्त्र में सम्मिलित होकर 17 मार्च को जसपाल सिंह भट्टी उर्फ मिन्टू की स्विफ्ट कार में उपलब्ध कराया था। उक्त स्विफ्ट कार पुलिस द्वारा पूर्व में ही बरामद कर ली गयी है।
एसएसपी ने आगे बताया की शूटर अमरजीत तथा जसपाल सिंह भट्टी उर्फ मिन्टू आपस में फुफेरे भाई है, दोनों मूल रूप से सिहोर बिलासपुर के रहने वाले है। वर्ष 2014 में थाना रुद्रपुर से एटीएम चोरी व पुलिस टीम पर जानलेवा हमले के मामले में दोनों जेल जा चुके हैं। पुलिस टीम द्वारा 06.04.2024 को अभियुक्त जसपाल सिंह भट्टी और 07.04.2024 को सुखदेव सिंह गिल को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। अभियुक्त जसपाल सिंह भट्टी उर्फ मिन्टू एवं सुखदेव सिंह उर्फ सोनू वर्ष 2011 में थाना बाजपुर से हत्या के मामले में साथ-साथ जेल भी गये है। जसपाल सिंह भट्टी थाना किच्छा का गैगेस्टर भी रहा है जिसके विरुद्ध उत्तराखण्ड व उत्तर प्रदेश में उपरोक्त अपराध से पूर्व में हत्या के दो मुकदमे सहित 09 अन्य मुकदमे पंजीकृत है। अभियुक्त परगट सिंह के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है
नानकमत्ता केस अपटेड
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ऊधम सिंह नगर डॉ0 मंजुनाथ टीसी महोदय द्वारा नानकमत्ता हत्याकांड के संबंध में दिया गया महत्वपूर्ण अपडेट।
हत्याकांड के लिए अपराधियों को एकत्रित करने, संसाधन जुटाने और हथियार उपलब्ध कराकर षड़यंत्र में शामिल 03 अन्य आरोपियों को किया गया गिरफ्तार।
पूर्व में भी हत्याकांड के 04 षडयंत्रकारियो को भेजा जा चुका है जेल।
गिरफ्तार अपराधियों पर विभिन्न राज्यों में दर्ज हैं हत्या, लूट, गैंगस्टर जैसे जघन्य अपराध सम्बंधित दर्ज़नो मुकदमे।
हत्या में शामिल मास्टर प्लानर के विरुद्ध महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्रित किए जा रहे है , की जाएगी सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही।
दोनो फरार अपराधियों (शूटरों) पर ईनाम राशि 50 हजार से बढ़ाकर की गई 01 लाख रूपए।
*एसएसपी ऊधम सिंह नगर की सख्त चेतावनी मामले को लेकर बिना वजह के बयानबाजी और सोशल मीडिया में अफवाह फैलाने वालों के विरुद्ध भी की जाएगी सख्त वैधानिक कार्यवाही।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  भैंस खा गई सोने का मंगलसूत्र, 2 घंटे तक ऑपरेशन कर निकाला गया