वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए अंतरिम बजट पेश किया

खबर शेयर करें -

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए अंतरिम बजट पेश किया। अप्रैल-मई में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं इसलिए यह अंतरिम बजट है। वित्त मंत्री ने संसद में पेश बजट के दौरान कहा कि गरीबों, महिलाओं, युवाओं और किसानों की आवश्यकताएं, आकांक्षाएं और कल्याण हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

12 पॉइंट में देखें क्या रहा बजट में खास
इस बार बजट में कुछ भी सस्ता या महंगा नहीं हुआ है। ऐसा इसलिए क्योंकि 2017 में लागू किए गए GST के बाद से बजट में केवल कस्टम ड्यूटी, एक्साइज ड्यूटी को बढ़ाया या घटाया जाता है, जिसका असर गिनी-चुनी चीजों पर पड़ता है।
लखपति दीदी योजना को बढ़ावा दिया जाएगा. इसे 2 करोड़ से बढ़ाकर 3 करोड़ करने का फैसला किया गया है. वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले 10 साल में महिलाओं को 30 करोड़ मुद्रा योजना ऋण दिए गए हैं.
पीएम आवास के तहत 70 फीसदी घर महिलाओं को दिए गए हैं.
पीएम संपदा योजना से 38 लाख किसानों को लाभ हुआ है.
9 से 14 साल की लड़कियों के लिए सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन लगाई जाएगी.
रुफ टॉप सोलर योजना के तहत 300 यूनिट्स की बिजली लोगों को मुफ्त उपलब्ध कराई जाएगी.
यात्रियों की सुरक्षा, सुविधा और आराम के लिए 40 हजार सामान्य रेलवे बोगियों को वंदे भारत रेल की बोगियों में बदला जाएगा.
तीन प्रमुख आर्थिक रेलवे कॉरिडोर लागू किए जाएंगे जिनमें पहला ऊर्जा, खनिज और सीमेंट कॉरिडोर है. दूसरा पोर्ट कनेक्टिविटी कॉरिडोर, और तीसरा उच्च यातायात घनत्व कॉरिडोर,
पीएम आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 3 करोड़ घर बनाने का काम पूरा हुआ है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अगले 5 साल में और 2 करोड़ घर बनाए जाएंगे.
कौशल भारत मिशन के तहत 1.4 करोड़ युवाओं को प्रशिक्षण दिया गया और उन्हें कुशल बनाया गया.
पूरे टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है. यानी करदाताओं को इस अंतरिम बजट में कोई राहत नहीं दी गई है. वहीं इनकम टैक्स रिटर्न के प्रसंस्करण की अवधि 2013-14 के 93 दिन से घटकर इस साल सिर्फ 10 कर दिया गया है.
घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लक्षद्वीप सहित अन्य द्वीपों पर बंदरगाह कनेक्टिविटी, पर्यटन बुनियादी ढांचे और सुविधाओं के लिए परियोजनाएं शुरू की जाएंगी.

Advertisement
यह भी पढ़ें -  सिविल सेवा की निशुल्क तैयारी करवाएगी माधवी फाउंडेशन ,मेधावी छात्रों को नहीं करनी होगी कोई चिंता|