हल्द्वानी: सरकारी नीतियों के खिलाफ़_खनन कारोबारियों का धरना प्रदर्शन शुरू

खबर शेयर करें -

हल्द्वानी अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर खनन व्यवसायियों द्वारा आज हल्द्वानी में आयोजित धरना प्रदर्शन कार्यक्रम शुरू कर दिया गया है, जिसमें सैकड़ो की संख्या में खनन व्यवसायी एवं दिग्गज कांग्रेसी नेता जुटे हैं।

इस दौरान खनन व्यवसाययों एवं कांग्रेसी नेताओं ने राज्य सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना की, तथा गौला नदी का निजीकरण न करने जीपीएस व्यवस्था लागू न करने समेत तमाम मुद्दों को लेकर आर पार की लड़ाई का ऐलान कर दिया है।

आज आयोजित धरना प्रदर्शन में खनन व्यवसायियों के परिजन भी पहुंचे हैं, जिन्होंने उक्त व्यवसाय को अपनी मुख्य आजीविका का स्रोत बताते हुए इसे समाप्त न करने की सरकार से गुहार लगाई है, बुद्ध पार्क में आयोजित धरने में प्रमुख रूप से उप नेता प्रतिपक्ष भुवन कापड़ी, हल्द्वानी के विधायक सुमित हृदेश, कांग्रेस के जिला अध्यक्ष राहुल छिमवाल, हरेंद्र बोरा, सतीश नैनवाल, संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश जोशी, महामंत्री जीवन कवड़वाल सहित सैकड़ो की संख्या में खनन व्यवसायी मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें -  डीएम ने ली पूर्ति विभाग के अधिकारी/ निरीक्षको के द्वारा किए जा रहे कार्यों की समीक्षा बैठक

आज हल्द्वानी में गौला खनन कारोबारियों का आंदोलन अब तेज हो गया है। पिछले 1 महीने से आंदोलन करने के बाद आज परिवार सहित बुधपार्क में सैकड़ो की संख्या में खनन व्यवसाय से जुड़े वाहन स्वामियों ने प्रदर्शन किया, हल्द्वानी विधायक सुमित हृदयेश और खटीमा विधायक भुवन कापड़ी भी खनन कारोबारियों को समर्थन देने बुध पार्क में पहुंचे।

यह भी पढ़ें -  एसटीएफ के हाथ लगी बड़ी सफलता, करोड़ों की धोखाधड़ी मामले में गैंग की सरगना को किया गिरफ्तार


खनन कारोबारियों के आंदोलन को देखते हुए प्रशासन ने भी बुध पार्क के बाहर भारी पुलिस फोर्स तैनात किया हुआ है, सिटी मजिस्ट्रेट, एसडीएम के साथ ही एसपी सिटी भी बुध पार्क के बाहर मौजूद रहे। खनन कारोबारी जुलूस निकालने की मांग कर रहे थे इस दौरान इंदिरानगर में पुलिस के साथ उनकी तीखी नोकझोंक भी हुई।

यह भी पढ़ें -  अब इस गांव के मनोज बने रातों रात करोड़पति , dream11 से ऐसे चमकी किस्मत


इस दौरान खनन कारोबारियों ने मांग करी की सरकार तत्काल खनन निजीकरण और वाहनों के फिटनेस को प्राइवेट देने का फैसला वापस ले। क्योंकि इसका सीधा प्रभाव हजारों खनन व्यवसाईयों के ऊपर पड़ रहा है वही समर्थन देने आए दोनों विधायकों ने राज्य सरकार के ऊपर नदियों को बेचने का आरोप लगाते हुए कहा की कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक इस मामले को उठाएगी और खनन का निजीकरण किसी भी कीमत पर नही होने दिया जाएगा।

Advertisement