लाल मंदिर के नाम पर हुई लाखों की धोखाधड़ी, संत बनकर भूमि फ्रॉड में युवक को फंसाया

खबर शेयर करें -

हरिद्वार: ज्वालापुर क्षेत्र में लाल मंदिर की भूमि बेचने के नाम पर एक बार फिर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। इस बार बहादराबाद निवासी एक व्यक्ति से 32 लाख रुपये की ठगी की गई। पीड़ित ने कोर्ट में इस संबंध में शिकायत दी थी।

शिकायत पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने संबंधित थाना पुलिस को मामले में केस दर्ज करने के आदेश दिए। कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने आरोपित संत समेत दो आरोपितों के खिलाफ ज्वालापुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। इससे पूर्व भी मंदिर की जमीन के नाम पर धोखाधड़ी के मामले सामने आ चुके हैं।
क्या है मामला?
पुलिस के मुताबिक, मदन लाल निवासी कस्बा बहादराबाद ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर बताया कि अक्टूबर 2022 में शमशाद निवासी गांव सलेमपुर महदूद रानीपुर ने उसकी मुलाकात रमेश नाथ शिष्य श्रीमंहत शिवनाथ निवासी लाल मंदिर ज्वालापुर से कराई थी।

यह भी पढ़ें -  वन्यजीवों के हमले में मुआवजा राशि बढ़ी, अब दिए जाएंगे छह लाख रुपए : सीएम पुष्कर सिंह धामी

उसे बताया गया था कि रमेश नाथ की लाल मंदिर के पास भूमि है, वह उसे बेचना चाहता है। भूमि का सौदा 16 करोड़ में तय हो गया था। उसने 31 अक्टूबर 2022 को संत रमेश नाथ को 20 लाख रुपये दे दिए। इसके बाद 12 लाख रुपये और दिए गए।

आरोप है कि बैनामे की तारीख भी तय कर ली गई, लेकिन उसे जानकारी हुई कि रमेश नाथ के नाम पर कोई भूमि नहीं है। आरोप है कि रकम वापस मांगने पर उसे इनकार कर दिया गया और उसे हत्या की धमकी दी गई। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी विजय सिंह ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Advertisement