रामनगर में गुलदार ने दो लोगों पर किया हमला, शोर मचाने पर लहूलुहान हालत में छोड़कर भागा

खबर शेयर करें -


रामनगर: नैनीताल जिले के रामनगर के ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार बाघ और गुलदार के आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है. इसी कड़ी में पूछड़ी गांव में बगीचे में काम कर रहे दो लोगों पर गुलदार ने हमला कर दिया. गुलदार के हमले में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए. जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस घटना के बाद पूछड़ी गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है.

जानकारी के मुताबिक, रामनगर के पूछड़ी गांव में कुछ लोग बगीचे में काम कर रहे थे. तभी अचानक से तुलसीराम (उम्र 60 वर्ष) और शेख अरमान (उम्र 25 वर्ष) पर गुलदार ने हमला कर दिया. उनकी चीख पुकार सुन बगीचे में मौजूद अन्य लोग घटनास्थल की ओर दौड़े और जोर-जोर से शोर मचाया. ऐसे में शोर सुनकर गुलदार दोनों को लहूलुहान हालत में छोड़कर भाग गया. घटना के बाद दोनों घायलों को उपचार के लिए सरकारी अस्पताल लाया गया. जहां पर उनका उपचार चल रहा है.

यह भी पढ़ें -  अत्यधिक बारिश के कारण नैनीताल-हल्द्वानी मुख्य मार्ग मैं ज्योलिकोट डोलमार टूटा पहाड़ के पास अत्यधिक मलवा आने के कारण मुख्य मार्ग पूरी तरह बंद।

वहीं, घायल शेख अरमान ने बताया कि वो बगीचे में अपनी बिजली की तार सही कर रहा था. तभी गुलदार ने उस पर हमला कर दिया. काफी देर तक वो गुलदार से खुद को छुड़ाता रहा, लेकिन गुलदार ने उसके कंधे, गले और सीने पर अपने नाखूनों से कई वार कर दिए. अरमान ने कहा कि ग्रामीणों के हो हल्ला के बाद गुलदार उसे छोड़ कर बगल में पानी भर रहे बुजुर्ग पर हमला कर दिया.

यह भी पढ़ें -  गहरी खाई में जा गिरे बाइक सवार युवक ,अस्पताल में भर्ती

इसके अलावा घायल तुलसीराम ने बताया कि वो बगीचे के पास पानी भर रहे थे. इसी बीच गुलदार ने उन पर भी हमला कर घायल कर दिया. गुलदार के हमले में तुलसीराम के भी सिर पर नाखूनों के गंभीर निशान आए हैं. उधर, घटना की सूचना देने के बाद भी वनकर्मी मौके पर नहीं पहुंचे, जिस पर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा. उन्होंने वन विभाग से जल्द से जल्द गुलदार को पकड़ने की मांग की.

यह भी पढ़ें -  देहरादून शासन से बड़ी ख़बर, 8 आईएएस अधिकारियों को समय से पहले प्रमोशन पर पड़ी रार

वहीं, प्रधान पति हाजी शकील अंसारी ने बताया कि पिछले 2 सालों से इस क्षेत्र में गुलदार का आतंक बना हुआ है. कई लोग गुलदार के हमले में घायल हो चुके हैं, लेकिन आज तक विभागीय अधिकारी इस गुलदार को कैद नहीं कर पाए हैं, जिस कारण लगातार इस क्षेत्र में गुलदार का आतंक बना हुआ है.

क्या बोले वनाधिकारी? मामले में तराई पश्चिमी के रामनगर रेंज के वन दरोगा मोहनचंद पांडे ने कहा कि क्षेत्र में कैमरा ट्रैप लगाने के साथ ही गुलदार की मॉनिटरिंग की जाएगी. उसकी उपस्थिति पता करने के बाद पूछड़ी क्षेत्र में पिंजरा लगाने को लेकर उच्चस्तर से डिमांड की जाएगी.

Advertisement