मां बाल सुंदरी देवी का डोला धूमधाम से पहुंचा चैती मंदिर काशीपुर, मेले की बढ़ी रौनक

खबर शेयर करें -

काशीपुर: प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी चैत्र मास में लगने वाले उत्तर भारत के प्रसिद्ध मेले में शुमार चैती मेले में आज तड़के मां बाल सुंदरी देवी का डोला गाजे बाजे के साथ चैती मंदिर पहुंचा. धूम धड़ाके तथा ढोल नगाड़ों की थाप पर झूमते हुए श्रद्धालुओं की भक्ति के बीच पुलिस की कड़ी सुरक्षा में मां बाल सुंदरी देवी का डोला नगर मंदिर से चलकर शहर के विभिन्न मार्गों से होता हुआ 5 किलोमीटर दूरी तय कर चैती मंदिर पहुंचा. इस दौरान पुलिस प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए थे.

Maa Bal Sundari Devi
चैती मंदिर पहुंचा मां बाल सुंदरी का डोला: इस बार भी मां बाल सुंदरी देवी का डोला पूर्व के वर्षों की भांति धूमधाम के साथ नगर मंदिर से चैती मंदिर के लिए रवाना हुआ. मां बाल सुंदरी की स्वर्ण प्रतिमा को लेकर गाजे बाजे एवं ढोल नगाड़ों के साथ पंडा विकास अग्निहोत्री, मां के नगर मंदिर मोहल्ला पक्काकोट से हजारों भक्तों की भीड़ के साथ पालकी रूपी डोले में लेकर चैती मेला भवन पहुंचे. सुबह तड़के मां बाल सुंदरी की स्वर्ण प्रतिमा मां के भवन में पहुंचते ही भक्तों की भीड़ प्रसाद चढ़ाने के लिए चैती मेले में उमड़ पड़ी.

यह भी पढ़ें -  नौकरी लगाने के नाम पर दो करोड़ से अधिक की ठगी करने वाला फरार ईनामी गैंगस्टर गिरफ्तार

21 अप्रैल की रात नगर मंदिर लौटेंगी मां: मां बाल सुंदरी पांच दिन चैती मंदिर में विराजमान रहने के बाद वापस धूम-धड़ाके के साथ 21-22 अप्रैल की मध्यरात्रि वापस नगर मंदिर के लिए प्रस्थान करेंगी. मां को नगर मंदिर से लेकर चैती मंदिर पहुंचे पंडा विकास अग्निहोत्री ने बताया कि मां बाल सुंदरी देवी का डोला नगर मंदिर से चैती मंदिर के लिए प्रस्थान करने से पूर्व मां की स्वर्णिम प्रतिमा को बीती शाम 4 बजे से रात्रि में 12 बजे तक मां बाल सुंदरी देवी मोहल्ला पक्का कोट स्थित नगर मंदिर में सार्वजनिक दर्शनों के लिए रखा गया था. इस दौरान स्थानीय तथा दूरदराज से आये मां के भक्तों ने मां के दर्शन किये,

चैती मेले में बढ़ गई रौनक: रात्रि 12 बजे कलश स्थापना होकर हवन पूजन के साथ सांकेतिक बलि दी गयी. इसके बाद मां का डोला तड़के सुबह 3 बजे नगर मंदिर से चलकर सवा 4 बजे चैती मंदिर भवन पहुंचा और मां विराजमान हुईं. उन्होंने बताया कि त्रयोदशी और चतुर्दशी यानी कि 21-22 अप्रैल की मध्यरात्रि में पूरे विधिविधान के साथ पूजा अर्चना के बाद मां का डोला वापस नगर मंदिर के लिए प्रस्थान करेगा. भक्तों में मां के प्रति श्रद्धा का अनुमान इसी के साथ लगाया जा सकता है कि डोले के साथ हजारों की संख्या में मां के भक्त डीजे, ढोल तथा बैंड बाजों की धुन पर झूमते नाचते जा रहे थे.

यह भी पढ़ें -  कल से विधानसभा परिसर के चारों ओर लगेगी धारा-144, यूसीसी पर विपक्ष बनाएगा रणनीति

10 मई तक चलेगा चैती मेला: आज अष्टमी के दिन से स्थानीय और दूर-दराज से आये श्रद्धालु प्रसाद चढ़ाएंगे. आगामी 19 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के चलते सुरक्षा की दृष्टि से डोला यात्रा में बड़ी संख्या में काशीपुर तथा आसपास के थाना क्षेत्रों से पुलिस बल तैनात था. मां का डोला मोहल्ला पक्काकोट स्थित नगर मंदिर से शुरू होकर मां मनसा देवी रोड, मुख्य बाजार नगर निगम रोड महाराणा प्रताप चौक और द्रोणा सागर के पीछे टीले वाली सड़क से होते हुए चैती मंदिर पहुंचा. सुरक्षा के बावत एसडीएम काशीपुर अभय प्रताप सिंह ने बताया कि डोला क्योंकि पहले से ही प्रस्तावित था, ऐसे में पुलिस के द्वारा सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त पहले से ही किए हुए हैं. डोले के साथ में पुलिस फोर्स तैनात है तो वहीं मंदिर भवन में भी पुलिस की व्यापक व्यवस्था की गई है.

यह भी पढ़ें -  11 और 12 को पर्वतीय जनपदों में यलो अलर्ट

चुनाव को देखते हुए कड़ी हुई सुरक्षा: मंदिर में श्रद्धालु मां के दर्शन सुलभ तरीके से कर सकें इसके लिए भी बड़ी संख्या में फोर्स तैनात की गई है. इसके अलावा खालसा ग्रुप और अनेक वॉलिंटियर्स तथा एसपीओ भी मां के डोले की सुरक्षा में तैनात किए गए. लोकसभा चुनाव 19 अप्रैल को होने वाले हैं, जिसके चलते आम जनता प्रत्याशियों के चुनाव प्रचार में व्यस्त है. फिर भी श्रद्धालु मां की भक्ति में चुनाव प्रचार को भी पीछे छोड़ते हुए और सारी थकान को पीछे छोड़ते हुए मां के डोले के साथ घूमते और नाचते हुए मां के जयकारे लगाते हुए नजर आए.

Advertisement