एल्विश ही नहीं शाहरुख खान का बेटा आर्यन और ये अभिनेत्री भी फंसी, क्या है एनडीपीएस एक्ट; जानिये

खबर शेयर करें -

, नोएडा: रेव पार्टी में सांपों के जहर सप्लाई करने के मामले में जेल भेजे गए एल्विश यादव को जमानत दिलाने के लिए हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक के वकील जुटे हैं। एल्विश के वकीलों की टीम सोमवार को नोएडा आई और लुक्सर जेल भी गई थी। हालांकि एनडीपीएस एक्ट की धारा-27ए एल्विश के लिए परेशानी का सबब बन गई है।

एक्ट की धारा-27ए की वजह से फिल्मस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान और सुशांत सिंह राजपूत मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को कई दिनों तक जेल में रहना पड़ा था। तीन नवंबर 2023 को जब पीएफए की तरफ से एल्विश समेत अन्य पर जब मुकदमा दर्ज किया गया था तब वन्य जीव अधिनियम और आईपीसी की धारा 120बी एफआईआर में थी।
सांपों के जहर सप्लाई करने व विष का कारोबार करने के आरोप में कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत कई धाराएं बढ़ाई है। इनमें एनडीपीएस 8/20/27/ 27ए/29/30/32 शामिल है। इन धाराओं के तहत दोषी पाए जाने पर एल्विश को 20 साल तक की सजा हो सकती है। इसके साथ इस जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील पीयूष भारद्वाज के मुताबिक एनडीपीएस की धारा 27-ए एल्विश को सबसे अधिक परेशान कर सकती है। एनडीपीएस एक्ट लगने के बाद उसे जेल भेजना पुलिस के लिए आसान हो गया।

क्या है एनडीपीएस एक्ट
नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट 1985 को आमतौर पर एनडीपीएस एक्ट के रूप में जाना जाता है। इसके तहत नशीली दवाइयों या पदार्थ के उत्पादन, विनिर्माण, खेती, कब्जा, ब्रिकी, खरीद या सेवन करने पर यह एक्ट लगाया जाता है।
कोर्ट में 24 घंटे की हड़ताल
सूरजपुर कोर्ट में सोमवार को वकीलों की तरफ से 24 घंटे की हड़ताल की घोषणा की गई। एक वकील के बेटे के साथ हुई घटना के बाद पुलिस ने कार्रवाई नहीं की थी। अब एल्विश के मामले में भी जमानत अर्जी दाखिल करने में वक्त लग सकता है।
एल्विश की मां के रोने का वीडियो वायरल
एल्विश के जेल जाने के बाद फॉलोवर्स अलग-अलग तरीके से सोशल मीडिया पर उसका समर्थन कर रहे हैं। सोमवार को एल्विश की मां के रोने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो के कमेंट बॉक्स में एल्विश के समर्थन में लोग कमेंट कर रहे हैं। साथ ही नोएडा पुलिस की कार्रवाई पर विरोध जता रहे हैं।
सब सही होगा हौसला रखो
एल्विश के दोस्त व हमेशा साथ रहने वाले लव कटारिया ने सोशल मीडिया पर उसके प्रशंसकों के नाम पोस्ट किया है। इसमें सब सही होगा, हौसला रखने की बात लिखी है। साथ ही कहा गया है कि आवर ब्वॉय नीड्स स्ट्रेंथ। जय श्री राम। वहीं एक वीडियो में उसके दोस्त सब ठीक होने और एल्विश भाई अच्छे हैं जैसी बाते कहते दिख रहे हैं।
ये सबूत बने एल्विश के गले की फांस
आपको बता दें कि रेव पार्टी में सांपों के जहर सप्लाई करने के मामले में घिरे यूट्यूबर एल्विश यादव पर सांपों के साथ का वायरल वीडियो भारी पड़ गया। इसके साथ ही सपेरों से जुड़े कई लोगों के साथ ऑडियो व सपेरों से बरामद विष की एफएसएल रिपोर्ट एल्विश की गिरफ्तारी और जेल जाने का कारण बन गया। ऑडियो, वीडियो व एफएसएल रिपोर्ट जब पुलिस ने कोर्ट में रखा तब कोर्ट ने एल्विश को न्यायिक हिरासत में भेज दिया।
बहुचर्चित यूट्यूबर एल्विश यादव पुलिस की नोटिस पर रविवार को नोएडा आया था। उसे यह अहसास नहीं था कि पुलिस उसे गिरफ्तार कर सकती है। इस कारण वह केवल दो लोगों के साथ आया। पिछले बार की तरह इस बार उसके साथ वकीलों की फौज नहीं थी। एल्विश रविवार सुबह करीब साढ़े 11 बजे सेक्टर-73 स्थित फार्म हाउस पहुंचा। इसके बाद पुलिस की एक टीम उससे पूछताछ करने वहां गई।
पुलिस की टीम उससे पूछताछ करने के लिए अपने साथ सेक्टर-29 पुलिस चौकी ले गई और वहां पूछताछ के बाद उसे हिरासत में ले लिया गया। जब पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और मेडिकल कराने जिला अस्पताल पहुंची तब भी उसके चेहरे पर कोई डर का भाव नहीं था। नोएडा पुलिस ने इस पूरे ऑपरेशन को अंजाम बहुत ही चुपचाप किया।

यह भी पढ़ें -  दन्या से गुमशुदा महिला रुद्रपुर से बरामद

पुलिस को यह आशंका थी कि अगर एल्विश की गिरफ्तारी जल्दी फैल गई तो उसके फॉलोवर्स आकर हंगामा कर सकते हैं। इस कारण पुलिस अधिकारियों ने इस पूरे ऑपरेशन को गोपनीय रखा। जब पुलिस की टीम एल्विश यादव को लेकर सूरजपुर कोर्ट पहुंची और वहां अपना पक्ष रखा तो एल्विश के वकील का तर्क काम नहीं आया। पुलिस सभी साक्ष्यों, एफएसएल रिपोर्ट को कोर्ट के सामने रखकर अपील की थी कि एल्विश यादव का बाहर रहना वन्य जीव के लिए खतरनाक है। बाहर रहकर यह साक्ष्यों के साथ खिलवाड़ भी कर सकता है।
मुझे कुछ नहीं बोलना है
रविवार को जब पुलिस टीम सेक्टर-29 पुलिस चौकी पर पूछताछ कर रही थी तब सबसे पहला सवाल यही था कि आपका सांपों के विष, रेव पार्टी में विष सप्लाई करने और सपेरों के साथ क्या संबंध है। इस पर एल्विश यादव ने छूटते ही कहा कि मुझे इस बारे में कुछ नहीं बोलना है। इसके बाद इससे संबंधित कई सवाल पूछे गए लेकिन एल्विश की तरफ से एक ही जबाव मिला।
पुलिस ने 150 से अधिक सवाल पूछे

यह भी पढ़ें -  करोड़ों की ठगी में शामिल मुख्यमंत्री के पूर्व निजी सचिव समेत चार के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा

नोएडा पुलिस की टीम ने एल्विश यादव से 150 से अधिक सवाल पूछे। इसमें अधिकतर जबाव में कुछ नहीं बोला तो कुछ के जबाव हां या ना में दिया। पुलिस ने पीएफए केस से जुड़े चार सपेरों व उसके साथी राहुल यादव से संबंध में सवाल किए। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर वायरल हुए सांपों के साथ कई वीडियो को लेकर भी सवाल पूछे। हालांकि वह इस दौरान सवालों को टालता रहा और पुलिस को इसमें सहयोग नहीं किया। इसके बाद उसकी गिरफ्तारी हुई।

Advertisement