Parliament Smoke Attack: क्यों लगाए जय भीम, भारत माता की जय के नारे

खबर शेयर करें -

संसद पर हमले की 22वीं बरसी पर सुरक्षा व्यवस्था का मजाक बनाते हुए चार युवाओं ने आज संसद भवन में जबरदस्त हंगामा किया। 02 बाहर रंगीन धुंआ छोड़ रहे थे तो उनके 02 साथी सदन में ही कूद पड़े। बड़ा सवाल यह है कि आखिर यह चारों को यह सब करने की क्यों जरूरत पड़ी।
सवाल यह भी है कि इनके द्वारा लगाए गए नारों तक का कोई तारतम्य नहीं मिल रहा। जय भीम के नारे इन्हें दलित संगठन से जोड़ते हैं, तानाशाही नहीं चलेगी की नारेबाजी किसी बामपंथी संगठन में होने का इशारा करते है। वहीं, भारत माता की जयकारे देख लोग इन्हें किसी कट्टरवादी हिंदू ग्रुप से जुड़ा मान रहे हैं।
बता दें कि जब संसद की कार्यवाही गतिमान थी और शीतकालीन सत्र चल रहा था। शून्यकाल में 05 मिनट बचे थे तब चार युवाओं ने संसद में धावा बोल दिया। उनमें से दो ने संसद में छलांग लगा दी। जबकि दो बाहर हंगामा व नारेबाजी करने लगे। जिनमें से एक युवती भी थी।
चार युवाओं में से एक का नाम सागर है। दूसरा मनोरंजन है। इन दोनों ने संसद के भीतर छलांग लगाई थी और स्प्रे छिड़का था। वहीं बाहर खड़े होकर रंगीन धुआं छोड़ने वालों में एक युवती का नाम नीलम है और दूसरा अनमोल​ शिंदे है। अनमोल शिंदे पुत्र धनराज शिंदे की उम्र 25 साल है और वह महाराष्ट्र के लातूर का रहने वाला है। पुख्ता सूत्र बता रहे हैं यह चारों एक—दूसरे को जानते हैं और सोशल मीडिया के जरिए एक—दूसरे से मिले थे।
गिरफ्तार हुए इन युवाओं का दावा है कि उनका किसी संगठन से ताल्लुक नहीं है। वह बस अपनी बात सरकार तक पहुंचाना चाहते थे। संसद के बाहर खड़ी नीलम ने नारेबाजी की थी। वह ‘तानाशाही नहीं चलेगी। संविधान बचाओ। मणिपुर को इंसाफ दिलाओ। महिलाओं पर अत्याचार नहीं चलेगा। भारत माता की जय। जय भीम, जय भारत। आदि नारे लगा रही थी।
यहां यह बता दें कि गत दिनों खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू Gurpatwant Singh
Pannu ने संसद पर हमले की धमकी दी थी। जिसके बाद से पुलिस पूरे अलर्ट पर थी। पन्नू ने अमेरिका से वीडियो जारी करके कहा था कि वह लोग संसद पर हमले की बरसी वाले दिन यानी 13 दिसंबर या इससे पहले संसद की नींव हिला देंगे। उसने बकायदा आतंकी व संसद हमले के मुख्य आरोपी अफजल गुरू के साथ एक पोस्टर भी जारी किया था।
संसद पर हमला करने वाली नीलम की आयु 42 साल है। वह हरियाणा के जींद की रहने वाली है। किसान आंदोलन से भी जुड़ी रही है। वह इन दिनों हिसार के एक पीजी में रहती है। नीलम सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रही है।
फिलहाल पुलिस इन चारों से गहन पूछताछ कर रही है। यह जानने का प्रयास किया जा रहा है कि इन लोगों ने इस तरह की नारेबाजी क्यों की। क्या यह किसी संगठन से जुड़े हैं अथवा कोई अन्य ही कहानी है। उम्मीद है जल्द पुलिस मामले का खुलासा मीडिया के समक्ष करेगी।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  हल्द्वानी – बनभूलपुरा में कथित अवैध मदरसे और नमाज स्थल सील, ध्वस्तीकरण रोका