गौला पुल के पास ट्रेन की चपेट में आने से दो युवकों की दर्दनाक मौत………….. तीसरा बाल-बाल बचा…….……….. दोनों परिवारों में मचा कोहराम…

खबर शेयर करें -

रेलवे ट्रैक पार करने में जरा सी लापरवाही बरतने पर पुलभट्टा और किच्छा के बीच गौला नदी पर रेलवे पुल पर ट्रेन की चपेट में आकर पूर्व सांसद और बीज प्रमाणीकरण के अध्यक्ष बलराज पासी के भांजे सहित दो युवकों की दर्दनाक मौत हो गयी। उनका तीसरा साथी ट्रेन की चपेट में आने से बाल बाल बच गया। पुलिस ने शव का पंचनामा भर कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
शनिवार रात डायल 112 पर ट्रेन की चपेट में दो युवकों के आने की सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया। किच्छा पुलिस पहले सिरोली फाटक तक पटरी किनारे काम्बिंग करते पहुंची। वहां कुछ नही मिला तो उन्होंने पुलभट्टा पुलिस को सूचना दी।
इसी दौरान उनको डायल 112 पर सूचना देने वाला योगेश मैनाली पुत्र हरीश चंद्र निवासी फ़ायर स्टेशन रुद्रपुर भी मिल गया। उसके साथ पुलिस जब गौला पुल पर पहुंची तो दोनों के क्षत बिछत शव बरामद कर लिया। उनकी शिनाख्त योगेश मैनाली ने मिक्कू कक्कड़ उर्फ तपस्वी आयु 25 वर्ष पुत्र सुनील कुमार निवासी आदर्श कालोनी वार्ड नंबर 13 रुद्रपुर व रोहित मिर्धा आयु 26 वर्ष पुत्र दिनेश मिर्धा निवासी डिबडिबा थाना बिलासपुर जनपद रामपुर उत्तर प्रदेश बताया।
मिक्कू कक्कड़ उर्फ तपस्वी पूर्व सांसद व बीज प्रमाणीकरण संस्थाअध्यक्ष बलराज पासी का भांजा है। योगेश ने पुलिस को बताया वह रोहित की बाइक से रोहित के रिश्तेदार की शादी में सितारगंज जाते समय पुराना बरेली मार्ग पर गौला नदी पर बने रेलवे के पुल पर बाइक खड़ी कर चले गए।
इसी दौरान दोनों किच्छा की तरफ से आ रही ट्रेन की चपेट में आ गए। योगेश किसी तरह ट्रेन की चपेट में आने से बाल बाल बच गया। पुलिस ने रात ही शव रुद्रपुर स्थित मोर्चरी भिजवा दिया था। रविवार सुबह पुलिस ने स्वजनों की मौजूदगी में शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम की कार्रवाई की। पुलिस योगेश मैनाली से पुलभट्टा थाने में घटना की जानकारी लेने में लगी है।
दुर्घटना के बाद योगेश इस कदर बदहवास होकर रात के अंधेरे में सूनसान स्थान पर घूमता रहा। उसने दस बजे डायल 112 पर सूचना दी। माना जा रहा है कि इससे पूर्व लगभग साढ़े नौ बजे पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आने से हादसा हुआ होगा।
पहले एसएसआई किच्छा विनोद फत्र्याल पुलिस फोर्स के साथ सिरोली कलां रेलवे क्रासिंग तक पटरी पर शव तलाशती रही। जब उनको शव नहीं मिले तो पुलभट्टा पुलिस को सूचित किया। जिस पर एसओ कमलेश भट्ट शव तलाशते रहे। रात्रि लगभग 12 बजे शव बरामद किए जा सके।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  उत्तराखण्ड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन का स्थापना दिवस