लालकुआं गौला गेट से हजारों रुपए के कंप्यूटर उपकरण हुए चोरी……… इतने घंटे खनन कार्य प्रभावित………..गौला निकासी गेटों में सीसीटीवी कैमरे ना होने के चलते नहीं लिखायी एफआईआर……….. इन्होंने लगाया गौला नदी के इन गेटों से जबरदस्त अवैध खनन का आरोप………

खबर शेयर करें -

लालकुआं। लालकुआं गौला निकासी गेट से बीती रात्रि अज्ञात चोर लगभग 80 हजार रुपए के कंप्यूटर उपकरण लेकर रफू चक्कर हो गये, गौला निकासी गेट में सीसीटीवी कैमरे नहीं होने के चलते चोरी की घटना का कोई खुलासा नहीं हो सका, साथ ही ठेकेदार द्वारा घटना के 24 घंटे बाद भी कोतवाली में मामले की तहरीर नहीं दी गई है, वहीं आज प्रातः लगभग दो घंटे तक गौला नदी में खनन वाहन प्रवेश नहीं कर सके।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गत दिवस लगभग 6 बजे लालकुआं गौला निकासी गेट से जब सभी वाहन खनन सामग्री लेकर बाहर निकल गए और गेट बंद हो गया, उसके बाद रात्रि में अज्ञात चोरों द्वारा धर्म कांटे के भीतर घुसकर कंप्यूटर्स के दो की बोर्ड, डाटा केबल और दो इंडिकेटर चोरी कर लिए गए, गौला नदी में धर्म कांटों का संचालन कर रहे ठेकेदार राजू जोशी ने बताया कि चोरी गए सामान की कीमत 80 हजार रुपए से अधिक है, जब उनसे यह पूछा गया की चोरी होने के बावजूद उनके द्वारा कोतवाली लालकुआं में एफआईआर दर्ज क्यों नहीं कराई गई तो उनका कहना था कि वन विकास निगम द्वारा गौला गेटो में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए हैं, और जब वह चोरी की रिपोर्ट लिखाने थाने में जाते हैं तो पुलिस अधिकारी सीसीटीवी लगाने की बात करते हैं। इधर वन विकास निगम के डीएलएम धीरेश बिष्ट ने बताया कि लालकुआं गेट में कंप्यूटर के पार्टस चोरी होने के चलते एक घंटे से अधिक समय तक कामकाज प्रभावित हुआ, बाद में नए उपकरण लगाकर खनन सामग्री ले जाने वाले वाहनों को नदी के भीतर किया गया, गौला निकासी गेटों में सीसीटीवी कैमरे ना होने के मामले में डीएलएम ने कहा कि सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए टेंडर हो गए हैं, परंतु उसका अनुमोदन प्राप्त नहीं होने के चलते सीसीटीवी कैमरे नहीं लग सके हैं।
वही गौला खनन गेटों पर हो रही लगातार चोरियों का खुलासा नहीं होने पर गौला खनन मजदूर उत्थान समिति के अध्यक्ष रमेश जोशी ने वन विकास निगम पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब इस सत्र का खनन सीजन शुरू हुआ उप जिलाधिकारी के सामने वन वन निगम को एक हफ्ते के अंदर सीसीटीवी कैमरे खनन गेटों पर लगाने के लिए कहा गया था। तब से आज 6 महीने हो गए अरबों रुपए का राजस्व देने वाली गौला नदी पर अभी तक सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि विभाग के किसी भी अधिकारी के पास खनन गेटो का अपडेट नहीं है, जिससे खनन गेटों पर अवैध खनन तेजी के साथ धड़ल्ले से हो रहा है। गौला ही नहीं नंन्धौर, कोसी और दाबका नदियों में भी सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए हैं। रमेश जोशी ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा सरकार खुद ही गौला और अन्य नदियों से खनन चोरी कराने में सहयोग कर रही है।
इधर खनन व्यवसाईयों का कहना है कि कंप्यूटर उपकरण चोरी हो जाने के चलते आज प्रातः 2 घंटे से अधिक समय तक खनन कार्य ठप्प रहा। उधर लालकुआं कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक डीएस फर्त्याल ने कहा कि पुलिस को गौला निकासी गेट से कंप्यूटर उपकरण चोरी होने के मामले में कोई तहरीर नहीं मिली है

Advertisement