एमबीबीएस कर रहे बेटे के गैंगरेप में फंसने का झांसा दे 5.75 लाख ठगे

खबर शेयर करें -

देहरादून। जयपुर में एमबीबीएस कर रहे दून निवासी व्यक्ति के बेटे के जज की बेटी से गैंगरेप में फंसने का झांसा देकर 5.75 लाख रुपये जमा करवा लिए। झांसा दिया गया कि तत्काल रकम जमा कर दें। नहीं तो उनके बेटे का डीएनए टेस्ट कराने के साथ ही जेल भेजने की धमकी दी। रकम जमा करने के बाद बुजुर्ग ने शाम को बेटे से बात की तो पता लगा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ था। घटना को लेकर पीपी सिंह निवासी निकट कारगी चौक ने साइबर थाने में तहरीर दी। कहा कि उनके फोन पर बीते दो जनवरी को व्हाट्सएप पर वाइस कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को जयपुर पुलिस का अफसर बताया। पीड़िता का बेटा जयपुर में एमबीबीएस की पढाई कर रहा है। डराया कि उनके बेटा को जज की बेटी से गैंगरेप में अन्य आरोपियों के साथ पकड़ा गया है।

आरोपी ने उनके बेटे से मिलती जुलती आवाज में किसी से बात कराई। इसके बाद झांसा दिया कि वह उनके बेटे को गैंगरेप के केस में फंसने से बचा सकता है। इस तरह झांसे में लेकर आरोपी ने अपने दिए बैंक खाते में पीड़ित से 5.75 लाख रुपये जमा करवा लिए। तब कहा कि उनके बेटे को कानूनी कार्रवाई से बचाया गया है। घटना की शाम पीपी सिंह ने अपने बेटे को फोन किया। बात हुई तो पिता ने बेटे से घटना को लेकर पूछा। इस दौरान उसने ऐसी किसी घटना होने से इंकार कर दिया। तब पीपी सिंह फिर से परेशान हो गए। इस बीच अगले दिन सुबह फिर उक्त नंबर से पीड़ित को फोन कर और रुपये जमा करने को कहा गया। तब पीड़ित को समझ आया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए कोई उनके बेटी आवाज की कॉपी कर उन्हें साइबर ठग चूना लगा रहे हैं।

यह भी पढ़ें -  चम्पावत उपचुनाव में कांग्रेस के स्थानीय नेताओं को नही बनाया प्रचारक, बड़े स्तर के नेताओं को तवज्जो


संभावना है कि साइबर ठगों ने जयपुर में कहीं से उनके बेटे का डाटा चुराया। जहां से उन्हें बाप और बेटे का पता लगा। इसके बाद उन्होंने इस हरकत को अंजाम दिया। छात्र के पीड़ित पिता की तहरीर पर पटेलनगर थाना पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इंस्पेक्टर पटेलनगर केके लुंठी ने बताया कि मामले में जांच कर आरोपी का पता लगाने की कोशिश की जा रही है

Advertisement