तो करन माहरा का टिकट हो गया पक्का, कांग्रेसियों में मच गई रार

खबर शेयर करें -


लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारों को लेकर कांग्रेस द्वारा कराए गए सर्वे में प्रदेश अध्यक्ष का नाम भी सामने आया है। जिसके बाद इस पर प्रतिक्रिया देते हुए हरीश रावत ने जवाब दिया है कि अगर करन माहरा चुनाव लड़ते हैं तो उन्हें संगठन की जिम्मेदारी किसी और को देनी चाहिए। इस पर करन माहरा ने भी जवाब दिया है। जिसके बाद माना जा रहा है कि करन माहरा का टिकट पक्का है और वो हरिद्वार या नैनीताल सीट से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं।


कांग्रेस के द्वारा लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारों को लेकर सर्वे कराए जा रहे हैं। जिनमें कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा का नाम भी सर्वे में सामने आया है। करन माहरा का नाम हरिद्वार के साथ ही नैनीताल उधम सिंह नगर सीट पर भी आया है।

यह भी पढ़ें -  मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के उपलक्ष में बनाने हेतु चंपावत में हुए 1600मीटर दौड़ का आयोजन

करन माहरा का टिकट हो गया पक्का
हरिद्वार में सर्वे में नाम आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि अगर करन माहरा चुनाव लड़ते हैं तो उन्हें संगठन की जिम्मेदारी किसी और को देनी चाहिए। जिस पर करन माहरा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि हरीश रावत, गणेश गोदयाल हो या फिर प्रीतम सिंह अध्यक्ष रहते हुए सभी ने चुनाव लड़े हैं तो फिर उनके लिए कोई अलग परिपाटी बनाई जा रही है।

यह भी पढ़ें -  जिलाधिकारी वंदना द्वारा देर सायं बनभूलपूरा क्षेत्र के लाईन न-17, नई बस्ती, गांधीनगर, बनभूलपुरा थाना तथा मलिक के बगीचे के क्षेत्र का लिया जायजा

करन माहरा के इस बयान के सामने आने के बाद चर्चाओं के बाजार गर्म हैं। ऐसा माना जा रहा है कि करन माहरा का टिकट पक्का है और वो लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। वहीं करन माहरा के नाम पर हरीश रावत की इस टिप्पणी के बाद तो ऐसा लग रहा है कि एक बार फिर से कांग्रेस में अंर्तकलह शुरू हो गई है।

प्रीतम सिंह चुनाव लड़ने से कर रहे इंकार
टिहरी लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष के साथ पूर्व नेता प्रतिपक्ष और टिहरी लोकसभा सीट से 2019 में चुनाव लड़े प्रीतम सिंह का नाम सबसे ऊपर बताया जा रहा है। लेकिन प्रीतम सिंह बार-बार चुनाव लड़ने से इनकार करते हुए नजर आ रहे हैं। वो इस इंकार का ठीकरा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के ऊपर फोड़ने का काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें -  खनन निदेशक को गेस्ट हाउस में बंधक बनाकर मांगी 50 लाख रुपये की रंगदारी

उनका कहना है कि जब टिहरी लोकसभा सीट पर संगठन का गठन हो रहा था तो उनसे कोई रायशुमारी नहीं ली गई। इसलिए वो टिहरी लोकसभा सीट से चुनाव नहीं लड़ेंगे। वहीं इस बात पर जब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष से पूछा गया तो उन्होंने इस पर कुछ भी कहने से साफ इंकार कर दिया। जिसके बाद ये माना जा रहा है कि कांग्रेस में टिकट को लेकर घमासान मचा हुआ है

Advertisement