लोस चुनावों से पहले BJP का महिला वोट बैंक साधने का प्रयास, बनाया ये खास प्लान

खबर शेयर करें -



लोकसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इन दोनों प्रदेश के जिलों में जाकर जहां विकास योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास कर आम जनता को कई सौगात देने का काम कर रहे हैं। तो वहीं हर जिले में जाकर महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने का काम भी मुख्यमंत्री कर रहे हैं।


सीएम पुष्कर सिंह धामी इन दोनों जिन भी जिलों का दौरा कर रहे हैं। उन जिलों में स्वयं सहायता समूह के तहत काम कर रही महिलाओं को प्रोत्साहन करते हुए नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही हर जिले में महिलाओं के लिए आयोजित मेलों में भी शिरकत कर रहे हैं। यहां तक कि कन्या पूजन कर मातृ शक्ति को नमन करते हुए नजर आ रहे हैं। महिलाओं का उत्थान और महिलाएं सशक्त हों सीएम धामी उस दिशा में काम कर रहे हैं। जिससे समझा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी महिला वोट बैंक को भी साधने का काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें -  जब सैंया भए कोतवाल तो डर काहेका : रविंद्र सिंह

महिला वोट बैंक भाजपा के लिए एक मजबूत कड़ी उत्तराखंड में बन चुका है। महिलाओं के बीच पहुंचकर जिस तरीके से सीएम धामी की तस्वीरें इन दिनों महिलाओं का सशक्त बनाने को लेकर देखी जा रही है उसे इसी दिशा में समझा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव को देखते हुए सीएम भाजपा के लिए वोट बैंक और मजबूत करने की कोशिशों में इन दिनों लगे हुए हैं।

लोकसभा चुनाव में वोट प्रतिशत
लोकसभा चुनावों में साल 2004 महिलाओं का वोट प्रतिशत 44.94 तो पुरूषों का वोट प्रतिशत 53.43 रहा। साल 2009 की बात करें तो महिलाओं का वोट प्रतिशत 51.11, पुरूषों का वोट प्रतिशत 56.67 रहा। साल 2014 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 63.37 और पुरूषों का वोट प्रतिशत 61.34 रहा। जबकि साल 2019 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 64.37 और पुरूषों का वोट प्रतिशत 58.87 रहा।

यह भी पढ़ें -  युवा कल्याण विभाग के तत्वाधान में आर्मी भर्ती की तैयारियों हेतु लाल बहादुर शास्त्री इण्टर कालेज सनेती में शारीरिक एवं मानसिक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया

विधानसभा चुनाव में वोट प्रतिशत
साल 2002 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 52.64, पुरूषों का वोट प्रतिशत 55.94, साल 2007 महिलाओं का वोट प्रतिशत 59.45, पुरूषों का वोट प्रतिशत 58.95, साल 2012 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 68.84, पुरूषों का वोट प्रतिशत 65.74, साल 2017 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 69.30, पुरूषों का वोट प्रतिशत 58.95 और साल 2022 में महिलाओं का वोट प्रतिशत 67.20, और पुरूषों का वोट प्रतिशत 62.60 रहा।

महिला वोटरों ने पुरुषों को मतदान में छोड़ा पीछे
उत्तराखंड राज्य गठन के कुछ सालों के बाद हुए चुनाव में जहां महिलाओं का वोट बैंक पुरुषों के मुकाबले काफी पीछे रहता था। तो वहीं अब महिला वोटरों ने पुरुषों को मतदान में उत्तराखंड में पीछे छोड़ दिया है जो कि आंकड़े बयां कर रहे हैं। यही वजह है कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की प्राथमिकता में महिला वोट बैंक खुद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि मातृ शक्ति का उत्थान बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ें -  गौला नदी के निकासी गेटों के 100 मीटर परिधि में लगी धारा 144, सार्वजनिक स्थान पर 5 या 5 से अधिक व्यक्ति समूह के रूप में एकत्रित नहीं होंगे और न ही होगी कोई सार्वजनिक सभा

प्रदेश सरकार के द्वारा महिला सशक्तिकरण की दिशा में काम किए जा रहे हैं। वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट का कहना है कि महिलाओं के पीएम मोदी और सीएम धामी आगे बढ़कर महिलाओं के उत्थान के लिए कई योजनाएं चला रहे हैं। यही वजह है कि महिलाएं भाजपा को वोट के रूप में आर्शीवाद दे रही हैं।

उत्तराखंड की मातृशक्ति भाजपा के साथ
धामी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य का भी कहना है कि महिलाओं के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार के द्वारा कई ऐसी योजनाएं चलाई जा रही हैं जिससे महिलाएं सीधे लाभ उठा रही हैं। उन्होंने कहा कि यही वजह है उत्तराखंड की मातृशक्ति आज भाजपा के साथ खड़ी नजर आ रही है। जबकि विपक्ष केवल इसे दिखावा मात्र करार दे रहा है

Advertisement