उत्तराखंड में आज हो सकती है तेज बारिश,जानिए अपने जिले का हाल

खबर शेयर करें -


मई-जून के लंबे इंतजार के बाद उत्तराखंड में आज तेज बारिश हो सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से जारी पूर्वानुमान के अनुसार बुधवार को प्रदेश भर में बारिश-तूफान का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। केंद्र की ओर से देहरादून समेत, पौड़ी, हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर, नैनीताल और चंपावत जिले में तेज आंधी के साथ बारिश होने के आसार हैं।

मंगलवार को हल्द्वानी में भीषण उष्ण लहर चली। सुबह के समय गर्मी अपेक्षाकृत कम थी, मगर जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया वैसे-वैसे उष्ण लहर और तपिश बढ़ती गई। गर्म हवाओं के साथ धूल के गुबार भी उड़ रहे थे। इधर, मौसम विभाग ने बुधवार को बारिश होने का अनुमान जताया है।

यह भी पढ़ें -  पट्टे की जमीन पर बनाया मकान, हाईकोर्ट ने सरकार को दिए अतिक्रमण हटाकर रिपोर्ट पेश करने के आदेश

मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून का अनुमान सही साबित हुआ। अनुमान था कि हल्द्वानी में मंगलवार को भीषण उष्ण लहर चलेगी। दोपहर के बाद ऐसा ही हुआ। राहगीरों का सड़क पर चलना तक मुश्किल हो गया। गर्मी की वजह से हर कोई परेशान हो उठा। अपरान्ह तक भी लू के थपेड़े चल रहे थे। आमजन के साथ-साथ जानवर भी गर्मी से परेशान दिखे। अधिकतम तापमान 42.5 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान सामान्य से सात डिग्री ज्यादा रहा।

यह भी पढ़ें -  लालकुआं क्षेत्र की श्रमिक बस्ती में अचानक लगी आग……


मौसम वैज्ञानिक डॉ. आरके सिंह ने अनुमान जताया है कि मंगलवार की देर रात से हल्द्वानी समेत अन्य मैदानी इलाकों में मौसम परिवर्तन होगा। अंधड़ के साथ बारिश होने का अनुमान है। गुरुवार को भी बारिश हो सकती है। अगर ऐसा हुआ तो लोगों को भीषण गर्मी से थोड़ी राहत मिलेगी। कुमाऊं मंडल के पर्वतीय क्षेत्रों में सोमवार को बारिश हुई। धारचूला में 36.2 मिमी और मुनस्यारी में 21.4 मिमी बारिश हुई है। पहाड़ों में भी गुरुवार तक बारिश होने का अनुमान है।

यह भी पढ़ें 👉 उत्तराखंड-यहाँ दामाद को ससुरालियों ने बंधक बनाकर जमकर पीटा, जाने वजह

यह भी पढ़ें -  इस भर्ती में 3247 अभ्यर्थियों का रिजल्ट निरस्त

जलभराव की बन सकती है स्थिति
प्रदेश भर में आंधी-तूफान के साथ तेज बारिश हो सकती है। 60 से 70 किलोमीटर की रफ्तार से झोंकेदार हवाएं चलने से कुछ इलाकों में पेड़ गिर सकते हैं। तेज बारिश होने से कुछ इलाकों में जलभराव की स्थिति भी बन सकती है। इसके अलावा बारिश होने से मैदान से लेकर पहाड़ तक के तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी।
– बिक्रम सिंह, निदेशक, मौसम विज्ञान केंद्र

Advertisement