Delhi-Dehradun Expressway पर जल्द दौड़ेगी गाड़ियां, पांच घंटे का सफर ढाई घंटे में होगा पूरा, ये रहेगा रूट

खबर शेयर करें -




Delhi-Dehradun Expressway का चौथा चरण लगभग पूरा होने वाला है। जो राजधानी देहरादून को राजाजी नेशनल पार्क से जोड़ता है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो अगर सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो एक्सप्रेसवे का निर्माण जून तक पूरा हो जाएगा और 12 किलोमीटर का एलिवेटेड सेक्शन जुलाई तक चालू हो जाएगा।


ढाई घंटे में तय होगा देहरादून से दिल्ली तक का सफर
प्रदेश में सड़कों को लगातार बेहतर बनाने के लिए काम किया जा रहा है। इस सड़क के बन जाने के बाद देहरादून से दिल्ली के बीच की दूरी घटकर 235 किलोमीटर की जगह 213 किलोमीटर रह जाएगी। छह लेन के आकार के चलते इस दूरी को केवल ढाई घंटे में पूरा कर लिया जाएगा। फिलहाल दिल्ली पहुंचनने में कम से कम पांच से छह घंटे का समय लगता है।

यह भी पढ़ें -  PM Modi से मिलने पहुंची Team India, कुछ ही देर में होगी मुलाकात

30 जून तक पूरी होगी परियोजना
बता दें ये एक्सप्रेसवे एशिया का सबसे लंबा वन्यजीव गलियारा है। जिसके लिए 12 किलोमीटर लंबा एलिवेटेड फ्लाईओवर बनाया जा रहा है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अनुसार इस परियोजना के पूरा होने की समयसीमा 30 जून तक पूरी होने की उम्मीद है। ये एक्सप्रेसवे दिल्ली को सहारनपुर, बागपत, बड़ौत और शामली के माध्यम से देहरादून से जोड़ेगा।

यह भी पढ़ें -  जिलाधिकारी वंदना ने लालकुआं एवं बिंदुखत्ता से लगे गौला नदी के तटीय क्षेत्रों का निरीक्षण करते हुए वन विभाग समेत कई अधिकारियों के साथ की बैठक

2025 तक पूरा होगा पूरा राजमार्ग
शुरू में एक्सप्रेसवे छह लेन का होगा, जिसे आठ लेन तक विस्तारित किया जा सकता है। इस एक्सप्रेसवे के बनने से दिल्ली से देहरादून की यात्रा के समय को 5 घंटे से घटाकर केवल 2.5 घंटे कर देगा और दूरी 235 किलोमीटर से घटकर 213 किलोमीटर रह जाएगी। एक्सप्रेसवे के एक हिस्सा इस साल जुलाई तक चालू होने की उम्मीद है, जबकि पूरा राजमार्ग मई 2025 तक पूरा होने वाला है।

यह भी पढ़ें -  नैनीताल उधम सिंह नगर लोकसभा सीट के चौथे राउंड के यह रहे नतीजे

इतने वाहन मार्ग से गुजरने की उम्मीद
बता दें दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे परियोजना की में लगभग 13,000 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। एक्सप्रेसवे खुलने के बाद अधिकारियों को उम्मीद है कि इस मार्ग का इस्तेमाल करने वालों वाहनों की संख्या रोजाना 20,000 से 30,000 तक हो जाएगी

Advertisement