उत्तराखंड: भवाली के जंगलों में लगी भीषण आग, घरों तक पहुंची; बमुश्किल पाया काबू

खबर शेयर करें -


भवाली : मल्ला रामगढ़ स्थित बिशारत गंज स्टेट में अराजक तत्वों ने आग लगा दी। जो तेजी से आबादी की ओर बढ़ने लगी। जिसे स्थानीय लोगों ने तत्परता दिखाते हुए बुझा लिया। मल्ला रामगढ़ के बिशारत गंज स्टेट से सटे जंगल मे बुधवार देर शाम अराजक तत्वों ने आग लगा दी। जो भीषण रूप लेकर तेजी से फैलते हुए आबादी की ओर बढ़ने लगी।

आग ने देखते ही देखते ग्रामीणों के कई घास के लूटों को भी अपनी चपेट में लिया। आग को आबादी की ओर बढ़ता देख स्थानीय नवाब हुसैन, हमीद खान, राहुल, पंकज हार्नवाल व अन्य लोगों ने आग बुझाना शुरू किया। करीब 1 घण्टे से अधिक समय में कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया।
प्रदेश सचिव युवा कांग्रेस नवाब हुसैन ने बताया कि आग अराजक लोगों ने जानबूझ कर लगाई है। जिससे ग्रामीणों के घास भी जल गई। उन्होंने वन विभाग से अराजक तत्वों को पकड़कर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड – होली का कन्फ्यूजन करें दूर, जानिए कब क्या होगा कार्यक्रम

अब भुजान, चापड़, अमेल मोटर मार्ग से सटे जंगल आग से धधके
गरमपानी में गांवों को जोड़ने वाली सड़कों व मुख्य हाइवे से सटे जंगलों के आग की चपेट में आने से आवाजाही खतरनाक हो चुकी है। भुजान क्षेत्र से बेतालघाट ब्लाक मुख्यालय समेत तमाम गांवों को जोड़ने वाले महत्वपूर्ण भुजान – बेतालघाट मोटर मार्ग व चापड़ रोड से सटा जंगल धधकने से हड़कंप मच गया।

यह भी पढ़ें -  यहां पकड़ी गई सोने की अनोखी तस्करी, प्राइवेट पार्ट में आधा किलो सोना छिपाकर पहुंचे यात्री को एयरपोर्ट पर CISF ने पकड़ा

आग की तेज होती लपटों से खतरा बढ़ गया। शाम तक जंगल धूं-धूं कर जलता रहा।मोटर मार्गों से सटे जंगलों के धधकने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। रोड से सटी पहाड़ियों के आग की चपेट में आने से लगातार पत्थर गिरने से दुर्घटना का खतरा भी बढ़ता ही जा रहा है। बुधवार को भुजान – बेतालघाट, चापड़ तथा अमेल मोटर मार्ग से सटा जंगल आग की चपेट में आने से आवाजाही जोखिम भरी हो गई। देखते ही देखते आग की लपटें विकराल होती चले गई।

यह भी पढ़ें - 

वन संपदा को भी नुकसान पहुंचा, वहीं लगातार पत्थर गिरने से आवाजाही करने वाले लोग परेशान रहे। देर रात तक जंगल धूं-धूं कर धधकते रहे। लंबे समय से एक के बाद एक जंगलों के आग की चपेट में आने के बावजूद रोकथाम को ठोस उपाय न किए जाने से लोगों ने गहरी नाराजगी जताई है।

Advertisement