आखिर क्यों केंद्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा को झेलना पड़ा लोगों का विरोध,पढ़े खबर

खबर शेयर करें -

अल्मोड़ा: शहर में मुख्य मार्गों और रिहायशी इलाकों के बीच में बार या शराब की दुकानें खोल दी जा रही है. जिसका विरोध क्षेत्र के लोग कर रहे हैं. इसके विरोध को विगत रात्रि अल्मोड़ा के खत्याड़ी में केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राज्य मंत्री अजय टम्टा को भी झेलना पड़ा. ग्रामीणों ने मंत्री की कार रोक कर विरोध जताया और गांव बचाओ बार हटाओ के नारे लगाते हुए ज्ञापन सौंपा और क्षेत्र से बार हटाने की मांग की.

ग्रामीणों ने लोअर माल रोड में बेस चिकित्सालय के पास केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री अजय टम्टा की कार को घेरकर रोक लिया और बार हटाने की मांग को लेकर जिला प्रशासन के विरोध में नारेबाजी की. नगर से लगे खत्याड़ी गांव के मुख्य मार्ग पर शराब बार खोले जाने का विरोध गैंबल के ग्रामीण पिछले तीन दिन से कर रहे हैं. लेकिन उनकी मांगों पर कोई कार्रवाई नहीं होने से वह आक्रोशित हैं. बीते देर रात्रि जब केंद्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा अल्मोड़ा के सर्किट हाउस की ओर आ रहे थे. इसकी जानकारी मिलते ही खत्याड़ी के ग्रामीण भारी संख्या में लोअर माल रोड में शराब बार के पास एकत्रित हो गए.

यह भी पढ़ें -  पहाड़ की मंजू के हौसले को सलाम, टैक्सी ड्राइवर बन चला रही परिवार

मंत्री के पहुंचते ही ग्रामीणों ने मंत्री की कार को घेर कर रोक लिया और बार व जिला प्रशासन के खिलाफ काफी देर तक नारेबाजी की. केंद्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कार से बाहर आकर ग्रामीणों से उनकी समस्या जानी. ग्रामीणों की मांग को लेकर केंद्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा ने मौके से जिलाधिकारी विनित तोमर से फोन पर बात की. वहीं उन्होंने डीएम को शराब बार का संचालन शीघ्र बंद करने के निर्देश दिए हैं.
जिसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ और उन्होंने मंत्री को जाने दिया. इस दौरान आनंद कनवाल, प्रताप कनवाल, पुष्कर कनवाल, दीपक कनवाल, नीमा देवी, तुलसी देवी, कमला देवी, रमा देवी, शांति देवी, जीवंती कनवाल समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे

Advertisement