हल्दूचौड़-भाजपा से इस्तीफा देंगे बरेली रोड के दो ग्राम प्रधान समेत दो दर्जन वरिष्ठ पदाधिकारी, देखें क्या है मामला

खबर शेयर करें -

हल्दूचौड़: शासन प्रशासन पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए बरेली रोड के दो ग्राम प्रधानों, दर्जनों भाजपा पदाधिकारियो व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने भाजपा से इस्तीफा देने का निर्णय लिया हैं। जिससे भाजपा संगठन में हड़कंप मच गया है।
विगत दिनों हल्दूचौड़ के गंगापुर कबडवाल गांव में गौशाला बनाए जाने के लिए कई परिवारों की 65 बीघा भूमि को बंजर घोषित करते हुए शासन और प्रशासन द्वारा अधिग्रहण किए जाने की कार्यवाही चल रही है। जिससे क्षुब्ध होकर क्षेत्र के सभी जनप्रतिनिधि भाजपा से इस्तीफा देने की तैयारी कर रहे हैं।
ग्रामीणों का कहना है की उनकी कई पीढ़ियां इस जमीन में खेती किसानी कर चुकी है, अब प्रशासन द्वारा इसे बंजर घोषित कर उत्पीड़न किया जा रहा है। ग्रामीणों द्वारा दिए गए इस्तीफे में कहा है कि हल्दूचौड़ और बरेली रोड के कई ग्राम प्रधान भाजपा के कई वरिष्ठ नेता एवं पदाधिकारी सहित वर्तमान में विभिन्न दायित्व में कार्य कर रहे पदाधिकारी शासन व प्रशासन से खुद को उत्पीड़ित महसूस कर रहे हैं, कई बार उचित फोरम में आवाज उठाने के बाद भी समस्या का हल नहीं मिला तो अब सभी पार्टी कार्यकर्ता संगठन से अलविदा कहने का मन बना चुके हैं। कई जनप्रतिनिधियों का कहना है कि जब उनकी खेती और कृषि ही नहीं बचेगी तो वह फिर पार्टी संगठन में रहकर क्या करेंगे। और पार्टी संगठन व सरकार उनकी पूर्णतया मदद नहीं कर रही है, यही वजह है कि क्षुब्ध होकर सभी जनप्रतिनिधियों
ने पार्टी संगठन से किनारा करने का मन बना लिया है। इस्तीफे में मुख्य रूप से ग्राम प्रधान जयपुर बीसा दिनेश आर्य, ग्राम प्रधान गंगापुर कबड़वाल व भाजपा मीडिया प्रभारी ललित सनवाल, पूर्व ग्राम प्रधान खीमानंद कविदयाल, उप प्रधान हेम चंद्रकपिल, पूर्व अध्यक्ष किसान सेवा समिति मोहन सुयाल, पूर्व अध्यक्ष गन्ना समिति राजीव कबड़वाल, पूर्व डायेक्टर नैनीताल दुग्ध संघ लाल सिंह धपौला, भाजपा भूत अध्यक्ष नीरज कबड़वाल, महेश चंद्र, राहुल सुयाल, राजेंद्र सिंह, किसान मोर्चा के पूर्व मंडल अध्यक्ष संजय कबड़वाल, उप प्रधान जयपुर वीसा भूपेश चंद्र कविदयाल, भाजपा कार्यकर्ता महेश चंद्र कबिदयाल, उमेश चंद्र गरवाल, प्रकाश जोशी, दिनेश चंद्र कबड़वाल समेत कई भाजपा कार्यकर्ताओ ने हस्ताक्षर किए है।

Advertisement
यह भी पढ़ें -  देखते ही देखते नदी में समा गया मकान