उत्तराखंड को नशा मुक्त बनाने के लिए ‘धामी अगेंस्ट ड्रग’ अभियान हुआ शुरू, मुख्यमंत्री को भेजे गए सुझाव

खबर शेयर करें -

देहरादून : उत्तराखंड को नशा मुक्त बनाने की दिशा में भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) महानगर देहरादून ने धामी अगेंस्ट ड्रग अभियान शुरू किया है। जिसके तहत भाजयुमो के पदाधिकारियों ने नशा तस्करों पर नकेल कसने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को सुझाव भेजे हैं। रैली निकालकर नशे के विरुद्ध जागरूक करने के साथ ही भाजयुमो ने जिलाधिकारी को सुझाव पत्र सौंपा है।

मंगलवार को भाजयुमो महानगर के पदाधिकारी लैंसडाउन चौक के निकट महानगर कार्यालय में एकत्रित हुए। यहां से धामी अगेंस्ट ड्रग अभियान की शुरुआत करते हुए भाजयुमो ने कलेक्ट्रेट तक जन जागरूकता रैली निकाली। हाथों में पोस्टर लेकर आमजन को नशा मुक्त उत्तराखंड बनाने के लिए प्रेरित किया गया।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड- इस राष्ट्रीय राजमार्ग पर चट्टान गिरने से दो वाहन हुए दुर्घटना के शिकार, कई लोगों की दबने की आशंका, एक की मौत

सख्त नकल विरोधी कानून लाया जाए

जिलाधिकारी सोनिका को भाजयुमो पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री के नाम प्रेषित सुझाव पत्र सौंपा। जिसमें मांग की है कि जिस प्रकार नकल के विरुद्ध सख्त नकल विरोधी कानून लाया गया है, उसी प्रकार नशे की तस्करी करने वालों के विरुद्ध भी सख्त कानून बनाया जाए। दून में चल रहे नशा मुक्ति केंद्रों का समय-समय पर निरीक्षण करवाया जाए और उन्हें निश्शुल्क दवाएं उपलब्ध कराई जाएं।

यह भी पढ़ें -  कई आईपीएस अधिकारियों के तबादले, देखिये कौन बना आपके जिले का नाम कप्तान

नशे की रोकथाम के लिए किए जाएं ये खास काम
स्कूल-कॉलेजों में नशे की रोकथाम के लिए माह में दो बार कार्यशालाओं का आयोजन अनिवार्य किया जाए। साथ ही स्कूल, कॉलेजों के आसपास विशेष निगरानी कराई जाए। ताकि असामाजिक तत्व गिरफ्त में आ सकें।

भाजयुमो ने की ये मांग
भाजयुमो ने मांग की है कि प्रशासन क्लबों को दिए जा रहे एक दिन के बार लाइसेंस को बंद करें। महानगर में संचालित हो रहे समस्त हॉस्टलों का पुलिस वेरिफिकेशन कराया जाए और समय-समय पर हॉस्टलों का निरीक्षण व निगरानी की जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री से सुझावों को अपने नशा मुक्ति संकल्प में शामिल करने का आग्रह किया।

Advertisement